इन 8 राज्यों में हिंदूओ को मिल सकता है अल्पसंख्यक होने का दर्जा

630
इन 8 राज्यों में हिंदूओ को मिल सकता है अल्पसंख्यक होने का दर्जा
आगामी 14 जून को एक बहुत अहम फैसला आ सकता है। इसके तहत देश में आठ राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक होने का दर्जा मिल सकता है। इन आठ राज्यों में हिंदू जनसंख्या अल्पसंख्यक तो है लेकिन उन्हें कानूनन अल्पसंख्यक का दर्जा नही प्राप्त है। इसी मुद्दों के ध्यान में रखते हुए 14 जून को राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के वाइस चेयरमैन के नेतृत्व में एक अहम बैठक होगी। जिसमें जम्मू-कश्मीर, पंजाब, लक्ष्यद्वीप, मिजोरम, नागालैंड, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर इन राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक का दर्जा देने पर फैसला लिया जाएगा।
इससे होगा यह है कि इन राज्यों में इससे पहले जिन मुस्लिम, सिख और ईसाई समुदाय के लोगों को अल्पसंख्यक का दर्जा प्राप्त था। अब वह दर्जा हिंदू धर्म के लोगों को दे दिया जाएगा। जैसे पंजाब में बहुसंख्यक होने के बावजूद सिख धर्म के लोगों को अल्पसंख्यक समाज के लिए दी जाने वाली सुविधाएं अब हिंदू धर्म के लोगों को दी जा सकती है। इसी तरह जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक का दर्जा मुस्लिमों की जगह हिंदुओ को मिल सकता है।
अगर 2011 की जनगणना के आंकड़ो पर नजर डालें तो जम्मू-कश्मीर में हिंदुओ की आबादी 28.44% है, पंजाब में हिंदुओं की आबादी 38.40% है, लक्ष्यद्वीप में हिंदुओं की आबादी 2.5%, है, मिजोरम में हिंदुओं की आबादी 2.75% है, नागालैंड में हिंदुओं की आबादी 8.75% है, मेघालय में हिंदुओं की आबादी 11.53% है, अरुणाचल प्रदेश में हिंदुओं की आबादी 29% है और मणिपुर में हिंदुओं की आबादी 31.39% हैं। इन राज्यों में अल्पसंख्यक होने के बावजूद हिंदुओ को अल्पसंख्यक का दर्जा नही प्राप्त हैं। जिसके चलते यहां के अल्पसंख्यक हिंदुओ को वो सारी सुविधाएं नही मिल पाती है जो सरकार के अल्पसंख्यक आयोग द्वारा आवंटित की जाती है।

दरअसल, भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय ने पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट में एक अर्जी दाखिल कर आठ राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक का दर्जा दिए जाने की मांग की थी। अपनी अर्जी में उन्होंने बताया है कि साल 2011 की जनगणना के अनुसार देश के आठ राज्यों में हिंदू अल्पसंख्यक हैं। बावजूद इसके इन राज्यों में अल्पसंख्यक होने का लाभ उन्हें मिल रहा है जो मौजूद आंकड़ो के अनुसार अल्पसंख्यक है ही नही। इसके लिए अश्विनी कुमार ने जो वजह बताई उसकके मुताबिक भारत सरकार ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग अधिनियम की धारा 2-सी के तहत हिंदुओ को अल्पसंख्यक का दर्जा नही दिया हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here