औरंगाबाद में अस्पताल ने 7 साल की बच्ची को 2 घंटे तक बनाए रखा सलाइन की बॉटल का स्टैंड

औरंगाबाद में अस्पताल ने 7 साल की बच्ची को 2 घंटे तक बनाए रखा सलाइन की बॉटल का स्टैंड

हिंदू-मुस्लिम जैसे बेहद ही अहम मुद्दे से दो मिनट का ब्रेक लेकर आज स्वास्थ्य की बात कर लेते हैं। क्योंकि खबर आई है कि राज्य में देवेंद्र और केंद्र में नरेंद्र सरीखे दैवीय नाम वाले मुखिया होने के बावजूद देश के बाकी हिस्सों की तरह औरंगाबाद में भी सरकारी अस्पताल राम भरोसे ही चल रहे हैं। राम नाम के भरोसे राजनीति करने के चक्कर में हमारे राजनेताओं ने अस्पतालों को भी राम भरोसे ही छोड़ दिया है।

इसका ताजा उदाहरण महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले से सामने आया है। औरंगाबाद शहर के घाटी सरकारी अस्पताल से जो तस्वीर वायरल हुई है, वह एक तस्वीर हमारे सरकारी अस्पतालों के बीमार, बहुत बीमार होने का सबूत दे रही है। जैसा कि आप तस्वीर में देख पा रहे हैं कि एक बच्ची अस्पताल में सलाइन चढ़ाने के लिए जरूरी बॉटल स्टैंड न होने के चलते खुद उस सलाइन बॉटल को हाथ में लिए खड़ी है।

ये भी पढ़े: भारत के बीमार अस्पतालों का अमानवीय चेहरा

Aurangabad Ghati Hospital

 

Aurangabad Ghati Hospital 

प्राप्त जानकारी के अनुसार, औरंगाबाद के खुलताबाद के भटजी गांव में रहने वाले एकनाथ गवली को बीमार हालत में बीते शनिवार 5 मई को घाटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों ने जांच के बाद सोमवार 7 मई को उनका ऑपरेशन किया। ऑपरेशन के बाद जब उन्हें वॉर्ड में शिफ्ट किया, तो वहां सलाइन बॉटल स्टैंड नहीं था। स्टैंड न होने पर डॉक्टर ने सलाइन की बॉटल एकनाथ के साथ आई उनकी 7 वर्षीय बेटी के हाथ में थमा दी। साथ ही हिदायत दी कि बॉटल को हाथ में ऊपर करके ही पकड़ना।

ये भी पढ़े: Health In India: भारत में महंगे इलाज के चलते हर साल पांच करोड़ लोग हो जाते हैं गरीब

आपको यह जानकर दुख होगा और गुस्सा आएगा कि सात साल की बच्ची अपने बीमार पिता के लिए 2 घंटों तक हाथ ऊपर की तरफ कर सलाइन की बॉटल हाथ से टांगे खड़ी रही। आप सिर्फ 2 मिनट लगातार हवा में हाथ खड़े रखकर देख लीजिए, आपको उस बच्ची का दर्द समझ में आ जाएगा। लेकिन हमें इस लड़की के दर्द से क्या! हमें तो हर शाम न्यूज चैनल पर हर मुद्दे को हिंदू-मुस्लिम के मसाले में लपेटकर पेश करने वाले एंकर को जहर की जुगाली करते देखना है और फिर अगली सुबह उसी जहर को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उतार देना है।
1 Comment
  1. Appreciating the dedication you put into your site and detailed
    information you offer. It’s great to come across a blog every once in a while that isn’t the
    same old rehashed material. Wonderful read!
    I’ve bookmarked your site and I’m adding your RSS feeds to my Google account.

    +905443535397

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com