कचरे से पैसे कमा रही ‘खाली बॉटल्स’ कंपनी

क्या आप सोच सकते है कि कोई कचरे से पैसे कमा सकता है? जनाब, जिस चीज के बारे में आप सोच तक नही सकते वह काम बेंगलुरु का एक नौजवान असल में कर रहा है. जी हां, बेंगलुरु में रहने वाले नवीन मरियम नामक युवक ने कचरे से पैसा कमाने का कारनामा कर दिखाया है. जिस कचरे को बेकार समझ हम अक्सर उसे कूड़ेदान में फेंक दिया करते है. उसी कचरे को लोगों से ऑनलाइन इकठ्ठा कर नवीन ना सिर्फ खुद कचरे से पैसे कमा रहे है बल्कि उसके साथ काम करने वाले 15 लोगों का घर भी कचरे की कमाई से ही चल रहा है. है ना कितने आश्चर्य की बात! तो चलिए जानते है यह अजूबा कब और कैसे हुआ.

दरअसल, इस अनोखे व्यवसाय की शुरुआत करने वाले नवीन मरियम ने अपने करियर का आरंभ हॉटेल इंड्रस्ट्री में बतौर शेफ के रूप में किया था. लेकिन कुछ समय के बीतते ही साल 2013 में नवीन ने ‘प्लेट अप’ नाम से अपनी खुद की केटरिंग सर्विश शुरू कर दी.  इसके बाद नवीन कॉरपोरेट्स इवेंट्स के लिए केटरिंग सर्विश से जुड़े कॉन्ट्रैक्ट लेने लगे. लेकिन अफसोस कि उनका यह दांव ज्यादा समय तक सफल नही हुआ. जिसके बाद उन्होंने कोई नया बिजनेस करने की ठानी. नाकामयाबी के बावजूद हार ना मानने और कुछ नया करने की सोच का ही नतीजा रहा कि उनके दिमाग मे कचरे से पैसा कमाने का ख्याल आया.

कचरे से पैसे

इसके लिए सबसे पहले उन्होंने ‘खाली बॉटल्स’ नाम की एक वेबसाइट बनाई. जहां पर छोटे से लेकर बड़ा ग्राहक अपना कूड़ा-करकट नवीन की कंपनी के पास जमा करवाने के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकता है. एक बार जब इच्छुक आदमी इस वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन करा देता है. तब कंपनी से संबंधित व्यक्ति को कन्फर्मेशन के लिए फोन या मैसेज आता है. इसके बाद ‘खाली बॉटल्स’ की टीम बाकायदा वेइंग मशीन के साथ प्रोफेशनल ड्रेस कोड पहने ग्राहक के पते पर पहुंच जाती है. यहां से सारा कचरा इकठ्ठा करने के बाद इसे संबद्ध और प्रमाणित रिसाइक्लिंग प्लांट भेज दिया जाता है. खाली बॉटल्स कंपनी पेपर, प्लास्टिक, बॉटल्स, कांच, लोहा जैसे चीजों के बदले में ग्राहकों को नकद या कूपन के रूप में भुगतान करती है. कई बार तो ग्राहक कंपनी के उद्देश्य से प्रभावित होकर मुफ्त में ही सारा कचरा कंपनी को दे देते है. आपको यहां बता दे कि खाली बॉटल्स कंपनी सिर्फ सूखा कूड़ा ही जमा करती है.

नवीन मरियम की खाली बॉटल्स कंपनी अब तक 120 टन से ज्यादा सूखा कचरा अकेले बेंगलुरु से ही इकठ्ठा कर चुकी है। इनकी वेबसाइट के जरिए अब तक इनसे 4275 से ज्यादा ग्राहक जुड़ चुके हैं. ज्यादा अच्छी बात यह है कि इनमे से 73 प्रतिशत लोग ऐसे है जो सूखे कचरे के निपटारे के लिए खाली बॉटल्स से रोजाना संपर्क करते है. जैसा कि हर स्टार्टअप के साथ होता है, शुरू में नवीन को भी नुकसान उठाना पड़ा. लेकिन आज के हालात यह है कि खाली बॉटल्स की वेबसाइट पर ग्राहकों की संख्या में प्रतिमाह 22% की वृद्धि हो रही है. अपने सफर के बारे में नवीन कहते है कि यह रेगिस्तान में पानी की तलाश करने जैसा रहा जिसमे एक अरसे के बाद आख़िरकार ठंडे जल का स्रोत मिल ही गया.

घर-घर से कूड़ा जमा कर उसकी रिसाइक्लिंग करवा कचरे से पैसे कमाते नवीन मरियम के अनुसार इसके और भी कई फायदे है. इसका सबसे बड़ा और अहम फायदा तो पर्यावरण को होता है. जैसा कि हम जब जानते है कि दुनिया के पर्यावरण को आज सबसे ज्यादा खतरा प्लास्टिक से है. प्लास्टिक को लेकर परेशानी यह है कि इसका इस्तेमाल तो बड़े पैमाने पर हो रहा है लेकिन निपटारा न के बराबर. ऐसे में ऑनलाइन कचरा जमा कर कचरे से पैसे कमाने का यह व्यवसाय ‘आम के आम और गुठलियों के दाम’ सरीखा है. इस व्यवसाय से आज ना सिर्फ बेंगलुरु जैसे शहर के की गंदगी भी साफ हो रही है बल्कि ड्राइवर से लेकर इंजीनियर तक करीब 15 लोगों को रोजगार भी मिल रहा है.

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com