कांग्रेस के ‘झूठ’ पर सर्जिकल स्ट्राइक! 2016 से पहले नहीं हुआ कोई भी सर्जिकल स्ट्राइक: आरटीआई

चुनावी हलचल के बीच राजनीतिक दलों का एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर काफ़ी आगे निकल चुका है। यही वो दौर है जहां राजनीतिक दल अपनी-अपनी पीठ थपथपाने में लगे हुए हैं। अपने बयानों के जरिये अपने वोटरों को साधने की पुरजोर कोशिश जारी है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने सरकार की बड़ाई करते हुए कहा था कि यह 56 इंच की छाती वाली सरकार है। दिल्ली में बैठी यह एक मजबूत सरकार है। पीएम मोदी ने 2016 में हुए सर्जिकल स्ट्राइक का बार-बार जिक्र किया है। औऱ, कहीं न कहीं इसकी क्रेडिट लेने की भरपूर कोशिश भी की है। पीएम मोदी ने रैलियों और जनसभाओं के दौरान कांग्रेस पर निशाना साधते हुए सर्जिकल स्ट्राइक की बात कही है।

उधर, कांग्रेस ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के शासनकाल में सेना ने 6 बार सर्जिकल स्ट्राइक किया था। मग़र हमने ढिंढोरा नहीं पीटा। हम इसका क्रेडिट नहीं लेना चाहते थे, यह हमारी सेना की उपलब्धि है। हमें इसपर गर्व महसूस होता है। हम सेना का मनोबल नहीं तोड़ना चाहते। भाजपा सेना का राजनीतिकरण कर रही है। लेक़िन यहाँ एक बात और ध्यान देने वाली है कि राहुल गांधी कहते रहे हैं कि कांग्रेस ने तीन बार सर्जिकल स्ट्राइक किया है। जबकि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था कि कई बार हुए हैं।

मग़र कांग्रेस के 6 बार के सर्जिकल स्ट्राइक के दावों को लेकर दाख़िल एक आरटीआई के जवाब ने कांग्रेस के झूठ पर सर्जिकल स्ट्राइक किया है। आरटीआई के जवाब में रक्षा मंत्रालय ने इस बात की पुष्टि की है कि 2016 से पहले सेना का ऐसा कोई भी अभियान नहीं हुआ है। इंडिया टुडे चैनल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जम्मू के एक सक्रिय कार्यकर्ता रोहित चौधरी को रक्षा मंत्रालय से यह जवाब मिला है।

मंत्रालय ने पुष्टि की है कि अब तक केवल एक सर्जिकल स्ट्राइक हुआ है। किसी सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में पूछने पर मंत्रालय ने कहा कि उनके पास इस तरह के हमलों के संबंध में कोई डेटा नहीं है। मंत्रालय ने यह भी कहा कि सितंबर 2016 में किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान भारतीय सेना में कोई हताहत नहीं हुआ था।

~Shravan Pandey

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com