केंद्र ने किया भारतीय मुद्रा के चीन में छपने की खबर को सिरे से खारिज

चीन के एक अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में एक ऐसी खबर छपी जिसने भारत भर में खलबली मचा दी। भारत सरकार पर पहले से ही खार खाए बैठे विपक्षी दल इस खबर के सामने आते ही सरकार पर एक दम से टूट पड़े। दरअसल, साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने एक रिपोर्ट के आधार पर यह खबर छापी कि चीन की एक सरकारी कंपनी को कई देशों की मुद्रा की छपाई का जिम्मा मिला है। रिपोर्ट के मुताबिक इन देशों में भारत का नाम भी शामिल है।
साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने अपनी खबर को और अधिक पुख्ता करने के लिए मुद्रा छपाई से संबंधित कंपनी का नाम और कंपनी के अध्यक्ष का बयान दोनों को अपने अखबार में जगह दी। रिपोर्ट में कंपनी का नाम चाइना बैंकनोट प्रिंटिंग एंड मिंटिंग कॉर्पोरेशन बताया गया। वहीं, उसके अध्यक्ष के हवाले से कहा गया कि 2013 में बेल्ट एंड रोड परियोजना लागू शुरू करने के बाद से चीन को सफलतापूर्वक कई देशों की मुद्रा छापने के सौदे मिले हैं। इन देशों में थाइलैंड, बांग्लादेश, श्रीलंका, मलेशिया, ‘भारत’, ब्राजील और पोलैंड शामिल हैं।
साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की इस खबर के भारत में फैलते ही चारों तरफ से मोदी सरकार की आलोचना का और सफाई देने की मांग का दौर शुरू हो गया। आम आदमी पार्टी के प्रखर प्रवक्ता राघव चड्ढा ने मोदी सरकार को घेरते हुए सरकार से सवाल किया कि इस बात की जानकारी जनता को क्यों नही दी गई कि भारत की मुद्रा चीन से छपकर आ रही है।इसके साथ ही उन्होंने चीन में भारतीय मुद्रा की छपाई को भारत की संप्रभुता और सुरक्षा के लिए बहुत बड़ा खतरा बताया।
हालांकि, केंद्र सरकार ने भारतीय मुद्रा की चीन में किसी सरकारी कंपनी के जरिए छपाई से जुड़ी खबर को सिरे से खारिज करते हुए उसे आधारहीन बताया है। एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक सोमवार को आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा, “ऐसी रिपोर्टें पूरी तरह आधारहीन हैं जिनमें बताया गया है कि चीन की एक कंपनी को भारतीय मुद्रा छापने को कहा गया है। भारत की मुद्रा भारत सरकार और आरबीआई के प्रिंटिंग प्रेस में छप रही है और छपती रहेगी।”
No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com