कोबरापोस्ट का खुलासा; बिक गई है मीडिया!

कोबरापोस्ट ने ‘ऑपरेशन 136’ का दूसरा हिस्सा जारी कर दिया है। पहले हिस्से की तरह इस हिस्से में भी कोबरापोस्ट ने कई चौकाने वाले खुलासे किए। पहले की ही तरह इस बार भी कई बड़े मीडिया संस्थान से जुड़े लोग ऑपरेशन 136 में कैमरे पर पैसे लेकर ‘हिंदुत्व’ के एजेंडे को बढ़ावा देने की बात स्वीकार करते दिख रहे हैं। हिंदुत्व के एजेंडे को अपने मीडिया संस्थान के जरिए बढ़ावा देकर एक विशेष पार्टी को चुनावी फायदा देने का यह घिनौना खेल कोबरापोस्ट के ऑपरेशन 136 के कैमरे में कैद हो गया।

कोबरा पोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन में टाइम्स ग्रुप, इंडिया टुडे ग्रुप, हिंदुस्तान टाइम्स ग्रुप, जी न्यूज, नेटवर्क 18, एबीपी न्यूज, दैनिक जागरण के अधिकारियों के साथ बातचीत का दावा किया गया है। कोबरा पोस्ट के दावे के अनुसार, इस बातचीत के दौरान ये सभी बड़े संस्थानों ने मोटी रकम के बदले विभिन्न तरीकों से हिंदुत्व के एजेंडे का प्रचार-प्रसार करने के लिए तैयार हो गए। कोबरापोस्ट के मुताबिक गुप्त कैमरों से पूरे अंडर कवर ऑपरेशन को अंजाम दिया गया है। इसमें आरोप लगाया गया है कि मीडिया हाउस पैसे के बदले सांप्रदायिक और ध्रुवीकरण एंगल के तौर पर खबरों को छापने और चलाने के लिए तैयार हो गए।

वहीं इस मामले में दैनिक भास्कर मीडिया ग्रुप ने दिल्ली हाईकोर्ट में अर्जी डालकर इस स्क्रीनिंग पर रोक लगाने की मांग की थी। भास्कर का कहना था कि कोबरा पोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन की डाक्युमेंट्री से उनकी प्रमाणिकता को जो नुकसान होगा उसकी भरपाई मुमकिन नहीं होगी। कोबरापोस्ट वेबसाइट के दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश पर अमल करते हुए दैनिक भास्कर से जुड़ी जांच को फिलहाल रिलीज नहीं किया। कोबरापोस्ट की तरफ से यह शिकायत दर्ज की गई है कि दिल्ली हाईकोर्ट ने बिना उनका पक्ष सुने ही आदेश दे दिया।

आपको बता दें कि कोबरापोस्ट के इस स्टिंग में टाइम्स ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर विनित जैन का भी नाम सामने आया है। इतना ही नही तो मोबाइल पेमेंट एप और पेमेंट बैंक पेटीएम का भी नाम इसमें शामिल हैं। कोबरापोस्ट स्टिंग में पेटीएम के एक अधिकारी के ये कहते दिखाया गया है कि उच्च सरकारी सूत्रों के कहने पर एक राजनीतिक दल को पेटीएम का डाटा दिया गया। कोबरा पोस्ट के इस तहकीकात में करीब 27 मीडिया संस्थान पैसों के एवज में ख़बरों का सौदा करने को तैयार दिखे। हालांकि, पश्चिम बंगाल के बर्तमान पत्रिका और दैनिक संबाद अख़बारों ने कोबरा पोस्ट की पेशकश यह कहते हुए ठुकरा दी कि इस तरह का कंटेंट प्रकाशित करना कंपनी पॉलिसी और संस्थान की आत्मा के ख़िलाफ़ है। इन दोनों संस्थानों ने अंडरकवर रिपोर्टर द्वारा श्रीमद भगवद गीता प्रचार समिति के नाम पर ‘हिंदुत्व’ की ख़बरें फैलाने के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया।

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com