चेतेश्वर पुजारा और राहुल द्रविड़ में कुछ ऐसी समान्यताएं हैं जो बिल्कुल भी सामान्य नहीं है

चेतेश्वर पुजारा को भारतीय टेस्ट टीम का नया दीवार कहा जाता है। चेतेश्वर पुजारा की तुलना महानतम भारतीय बल्लेबाज राहुल द्रविड़ से करने के पीछे का एक बड़ा कारण हम इन दोनों ही बल्लेबाजों की बेहद प्रभावशाली रक्षात्मक बल्लेबाजी शैली को मान सकते है। दोनों की ही खासियत यह है कि दोनों एक बार जब विकेट पर उतरते हैं, तब क्रीज पर ऐसे खूंटा गाड़ कर खड़े हो जाते हैं कि उन्हें आउट करने में विपक्षी गेंदबाजों के पसीने छूट जाते है।
इनके एक तरफ टिककर खेलने की वजह से यह अकेले दम पर ही टीम को मुश्किल से मुश्किल परिस्थितियों से सफलतापूर्वक बाहर निकाल लाते हैं। राहुल द्रविण और चेतेश्वर पुजारा ने ऐसी कई टेस्ट मैच पारियां खेली है, जिसमें टीम के दूसरे बल्लेबाज लगातार अपना विकेट गंवाते चले जाते हैं और ये दोनों अपना विकेट बचाकर टीम को हार से बचाने में सफल हो जाते है। ऐसी ही एक पारी चेतेश्वर पुजारा ने कल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली। जब भारत के बाकी बल्लेबाज एक-एक कर निपटते जा रहे थे तब चेतेश्वर पुजारा ने 246 गेंदों का सामना करते हुए 123 रन बना दिए।
सबसे कमाल की बात यह है कि राहुल द्रविड़ और चेतेश्वर पुजारा की सिर्फ शैली ही नहीं बल्कि रन बनाने के अंदाज के साथ-साथ रन बनाने की टाइमिंग भी एक दम एक जैसे ही है। आपको यह जानकर बेहद हैरानी होगी कि इन दोनों ही बल्लेबाजों में 3000, 4000 और 5000 टेस्ट रन बनाने के लिए एक जितनी ही इनिंग्स खेली है। राहुल द्रविड़ और चेतेश्वर पुजारा इन दोनों ने ही 3000 टेस्ट रन बनाने के लिए 67  पारियां, 4000 टेस्ट रन बनाने के लिए 84 पारियां और 5000 टेस्ट रन बनाने के लिए 108 पारियां खेली हैं। यह आंकड़े अद्भुत है।
No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com