तमिलनाडु विधानसभा में 14 सफाई कर्मचारियों की नौकरी के लिए 4,600 इंजीनियर, एमबीए ने किया आवेदन

27

देश में नौकरी की किल्लत की एक हैरान करने वाली तस्वीर सामने आई है। पहले तो अभिभावक अपनी गाढ़ी कमाई लगाकर अपने बच्चे को उच्च शिक्षण संस्थान में दाखिला दिलाते हैं। जब बच्चा पढ़ाई करके संस्थान से बाहर निकलता है तो उसके नए संघर्ष का दौर शुरू होता है। नौकरी की तलाश में वह सर्टिफिकेट लेकर दर-दर की ठोकर खाता है। अगर कहीं नौकरी मिलती भी है तो उसके अनुकूल नहीं होता।

तमिलनाडु विधानसभा सचिवालय में स्वीपर और सेनेटरी वर्कर्स के पद पर वैकेंसी निकली है। इस काम को हासिल करने की दौड़ में M Tech, B Tech और MBA,पोस्ट ग्रेजुएट के साथ-साथ ग्रेजुएट जैसी पेशेवर योग्यता वाले लोग शामिल हैं। आपको बता दें कि कुल 14 भर्तियाँ निकली हैं। इनमें 10 भर्तियाँ स्वीपर और 4 भर्तियाँ सेनेटरी वर्कर के लिए निकली हैं। इसके लिए कई डिप्लोमा होल्डरों ने भी आवेदन किया है। 26 सितंबर को विधानसभा सचिवालय ने पदों के लिए आवेदन मांगे थे।

इन पदों के लिए एकमात्र योग्यता यह थी कि इच्छुक उम्मीदवारों को सक्षम होना चाहिए। न्यूनतम आयु सीमा की बात करें तो उम्मीदवारों का18 वर्ष पूर्ण होना चाहिए। लेकिन अधिकतम आयु अलग-अलग थी। Employment Exchange से मिलाकर कुल 4,607 आवेदन प्राप्त हुए थे। इसमें से 677 आवेदकों को खारिज कर दिया गया जबकि शेष ने पात्रता मानदंड को पूरा किया है।

इससे पहले, मंगलवार को छात्र नेताओं ने आरोप लगाया था कि केंद्र सरकार ने अंतरिम बजट में देश में युवाओं के लिए नौकरियों और रोजगार के अवसरों के मुद्दे पर चुप्पी साधी थी। उन्होंने एक संयुक्त बयान में कहा कि विभिन्न संगठनों के तहत छात्र 6 फरवरी को लाल किले से संसद तक मार्च करेंगे।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष एन साई बालाजी ने कहा, “(प्रधानमंत्री नरेंद्र) मोदी एक और मौके के लिए युवा भारत आएंगे। लेकिन इस बार हम उन्हें अपने पीएम मोदी के रूप में कोई मौका नहीं देने जा रहे हैं।” मोदी ने हमारे भविष्य को बर्बाद कर दिया। हमारी एकता के माध्यम से हम यह सुनिश्चित करने जा रहे हैं कि सभी खाली सरकारी नौकरियों को भरा जाए, शिक्षा पर 10 प्रतिशत जीडीपी खर्च किया जाए, लिंग और सामाजिक न्याय सुनिश्चित किया जाए।”

~Shravan Pandey

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here