पैम्फलेट वॉर: वेंडर का दावा, AAP उम्मीदवार आतिशी के खिलाफ 300 स्मियर नोट वितरित करने के लिए किया गया था भुगतान

दिल्ली में आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच पैम्फलेट विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस मामले में एक नया मोड़ आया है। एक न्यूजपेपर वेंडर ने The Indian Express को बताया है कि उसे आतिशी मार्लेना के बारे में अपमानजनक टिप्पणी वाले 300 पर्चे वितरित करने के लिए भुगतान किया गया था।

पूर्वी दिल्ली से आम आदमी पार्टी की उम्मीदवार आतिशी मार्लेना ( Atishi Marlena ) ने इस पूरे प्रकरण के पीछे बीजेपी के उम्मीदवार गौतम गंभीर के होने का आरोप लगाया है। क्रिकेटर से पॉलिटिशियन बने गौतम गंभीर ने जोरदार तरीके से इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया है। उन्होंने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और आतिशी को मानहानि का नोटिस भेजा है।

बता दें कि इस मामले में आतिशी ने दिल्ली महिला आयोग के पास अपनी शिकायत दर्ज कराई है। पूर्वी दिल्ली के योजना विहार के एक अखबार विक्रेता ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “मैंने गुरुवार की सुबह एक विक्रेता से 300 पर्चे प्राप्त किए और उन्हें समाचार पत्रों के बीच रख दिया। मेरे कर्मचारियों ने तब उन्हें ‘ए’ और ‘सी’ ब्लॉक, योजना विहार, और सविता विहार के कुछ घरों में वितरित किया।”

आगे बताते हुए विक्रेता ने कहा कि उसे प्रति 100 पैम्फलेट के लिए 15 रुपये की मानक दर प्राप्त हुई। उसने कहा कि ब्लॉक ‘बी’ विवेक विहार में कुछ विक्रेताओं को ये पम्फलेट्स दिए गए, जहां वे हर सुबह 5:30 बजे अखबार लेने के लिए इकट्ठा होते थे।

हालांकि, समाचार पत्र विक्रेता संघ के महासचिव रमाकांत ने विक्रेताओं को पर्चे बांटने से इनकार किया है। उन्होंने अखबार को बताया, “ये पर्चे हमारे कर्मचारियों द्वारा वितरित नहीं किए गए थे। हमने सभी पर्चे की सामग्री पढ़ी और हमने इन्हें नहीं दिया है। कुछ अन्य लोगों ने ऐसा किया है।”

रमाकांत ने आगे कहा कि पिछले आठ दिनों से उनकी टीम आतिशी की उपलब्धियों के साथ AAP के पर्चे डाल रही थी। आईपी ​​एक्सटेंशन में हिमवर्षा अपार्टमेंट्स की निवासी शांता बालकृष्णन ने पुष्टि करते हुए कहा कि उन्हें तीन अखबारों के साथ पर्चे मिले। उन्होंने कहा, “मैंने पहले तो इस पर ध्यान नहीं दिया, लेकिन एहसास हुआ कि जब उन्होंने देखा है तो दूसरों को भी यह मिल गया होगा।”

इस बीच पूर्वी दिल्ली के रिटर्निंग ऑफिसर ने पुलिस से मामले में एफआईआर दर्ज करने को कहा है। डीसीपी (पूर्व) जसमीत सिंह ने कहा कि पुलिस को शिकायत मिली है और वह देख रहे हैं कि क्या इस मामले में केस दर्ज किया जा सकता है।

~Shravan Pandey

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com