भारत के वो दस जगह जहाँ है भूतों का बसेरा

भूत होता है कि नहीं होता? इस सवाल के जवाब अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन भूत के होने का ‘भय’ होता है या नहीं? इस सवाल का एक ही जवाब है और वह है, हाँ। भारत में ऐसी कई जगहें हैं जो सिर्फ अपने भूतिया होने को लेकर प्रसिद्ध हैं। इन जगहों को लेकर अलग-अलग लोग भूत-प्रेत से जुड़ी अलग-अलग कहानियां कहते रहते हैं। खैर मनोविज्ञान तो यह कहता है कि जहां भय होता है वहां भूत होता है। तो चलिए जानते हैं भारत के उन 10 जगहों के बारे में जहां भूत होने का दावा किया जाता है।

1) भानगढ़, राजस्थान:-

भानगढ़ को अगर भूतगढ़ कहा जाए तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। भारत के सबसे भूतिया जगहों की जब भी सूची बनेगी। राजस्थान के अलवर में स्थित भानगढ़ किला का नाम उस सूची में शीर्ष पर होगा। भानगढ़ किले की कहानी शुरू होती है आज से करीब 400 साल पहले 16वीं सदी में जब इसका निर्माण हुआ था। बसने के 300 बरस तक तो यह किला और इसके आसपास का क्षेत्र खूब फलता-फूलता है। लेकिन इसके बाद एक ऐसा घटनाक्रम घटता है जो भानगढ़ के समूचे अस्तित्व को ही समाप्त कर देता है।

दरअसल, एक तांत्रिक किले की राजकुमारी पर मोहित हो जाता है। फिर उसे अपने वश में करने के लिए तांत्रिक काले जादू का इस्तेमाल करता है। लेकिन काले जादू का राजकुमारी पर तो कोई असर नही पड़ता उलटे उस तांत्रिक की ही मौत हो गई। लेकिन वह तांत्रिक मरते-मरते यह श्राप दे जाता है कि भानगढ़ एक रात में समाप्त हो जाएगा और यहां के लोगों को कभी मुक्ति नहीं मिलेगी। संयोग से एक महीने के बाद ही भानगढ़ किले पर हमला होता है और उसमें राजकुमारी के साथ महल के सारे लोग मारे जाते हैं। लेकिन कहा जाता है कि तांत्रिक के श्राप के चलते हमले में मारे गए सभी लोगों की आत्मा आज भी उस इलाके में भटक रही है।

यही कारण है कि सरकार तक ने इस किले के बाहर यहां घूमने आए पर्यटकों के लिए चेतावनी जारी कर रखी है कि सभी लोग अंधेरा होने से पहले किले से बाहर निकल जाएं। लोग आज भी उस किले को देखने जाते हैं और लौटकर कुछ ऐसा अजीबोगरीब देखकर आते हैं जिसे मानने वाले भूत कहते हैं और ना मानने वाले भ्रम।

2) थ्री किंग्स चर्च,गोवा:-

1960 में पुर्तगाली गोवा को छोड़कर तो चले गए। लेकिन शायद जाने वालों में सिर्फ इंसान शामिल थे भूत नहीं। यही कारण है कि गोवा के थ्री किंग्स चर्च में आज भी तीन पुर्तगाली राजाओं के आत्मा के भटकने की बात ज्यादातर लोगों द्वारा कही-सुनी जाती है। स्थानीय कहानियों के अनुसार, एक समय में यहां तीन पुर्तगाली राजा रहा करते थे। तीनों में अक्सर वर्चस्व का संघर्ष चलता रहता था। इसी दौरान इनमें से होल्गेर नाम के एक राजा ने अन्य दो राजाओं को इसी चर्च में बुलाकर धोखे से जहर देकर मार दिया। लोगों को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने आक्रोशित होकर चर्च को चारों तरफ से घेर लिया। इस वजह से होल्गेर ने भी उसी चर्च में खुदकुशी कर ली। तीनों राजाओं के शव को उसी चर्च में दफना दिया गया। इसके बाद से इस चर्च में आने वाले लोगों को अक्सर इन राजाओं की मौजूदगी का एहसास होता है।

3) टॉवर ऑफ साइलेंस, मालाबार हिल्स, मुंबई:-

मुंबई के मालाबार हिल्स इलाके में स्थित टॉवर ऑफ़ साइलेंस पारसी समुदाय का कब्रिस्तान है। यहां पारसी समाज के लोग मृत व्यक्ति को जलाने और दफनाने की बजाय गिद्ध जैसी मांसभक्षी पक्षियों के लिए उसे खुले में छोड़ जाते हैं। इस जगह की भयावहता का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि भूत से जुड़ी अजीबोगरीब घटना सिर्फ इस कब्रिस्तान में ही नहीं बल्कि इसके आसपास के इलाके में भी अक्सर घटती रहती है।

लोगों की मानें तो रात के वक्त यहां से गुजरने वाले मुसाफिरों से एक सुंदर-सी लड़की लिफ्ट मांगती है। इतना ही नहीं इस कब्रिस्तान से सटे रोड पर एक पारसी परिवार की आत्माओं को देखने का भी दावा बार-बार किया जाता रहा है, जिनकी इसी जगह एक कार एक्सीडेंट में बहुत दर्दनाक मौत हुई थी। हसीन लड़की और पारसी परिवार की आत्मा ने इस रास्ते से गुजरने वाले कई लोगों को नुकसान पहुंचाया है।

4) लाम्बी देहर माइंस, मसूरी:-

पर्यटन के लिए भारतभर में सबसे लोकप्रिय स्थान मसूरी में एक ऐसी भी जगह है जो पर्यटन की बजाय प्रेत के लिए प्रसिद्ध है। जी हाँ, मसूरी के बाहरी इलाके में स्थित लाम्बी देहर माइंस ऐसी जगह है जो स्थानीय लोगों द्वारा बहुत सारे भूतों का स्थान है। ऐसा कहा जाता है कि 1990 के दशक में जब यहां खनन का काम चल रहा था तब तकरीबन 50,000 मज़दूर काम कर रहे थे। लेकिन स्टोन माइंस की वजह से फैली बीमारी के कारण एक के बाद एक मजदूरों की मौत होने लगी। सुरक्षा अनदेखी के चलते ट्रक के दुर्घटनाग्रस्त होने की घटनाओं में भी इजाफा होना शुरू हो गया।

इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने माइंस को हमेशा-हमेशा के लिए बंद कर दिया। इसके बाद से यह जगह वीरान पड़ी हुई है। स्थानीय लोगों का मानना है कि इस माइंस में मारे गए लोगों ने इसे ही अपना घर बना लिया है। यही कारण है कि लोग अक्सर यहां से लोगों के चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनने की बात कहते हैं। इतना ही नहीं यहां कई बार रहस्यमयी तरीके से ट्रक और कार जैसी गाड़ियां हादसे का शिकार हो गई हैं। इसके साथ ही यहां एक बार एक हेलीकॉप्टर तक के दुर्घटनाग्रस्त होने का मामला घट चुका है।

5) कुलधारा गांव, राजस्थान:-

राजस्थान सिर्फ अपने रजवाड़ों के लिए ही नहीं बल्कि भूतिया किस्से-कहानियों के लिए भी दुनियाभर में मशहूर है। भानगढ़ किले के बारे में तो सब जानते ही हैं लेकिन राजस्थान में कुलधारा नामक एक ऐसा गांव भी है जो पिछले लगभग 175 सालों से वीरान पड़ा है। कुलधारा गांव अपने समय का सबसे अत्याधुनिक और समृद्ध गांव था। लेकिन एक दीवान की गांव के लड़की पर पड़ी गंदी नजर ने गांव का इतिहास पलटकर रख दिया।

लोगों के अनुसार, यहां का एक दीवान गांव की एक लड़की से जबरदस्ती शादी करना चाहता था। गांव वाले इस बात के लिए तैयार नहीं थे। ऐसे में जब दीवान की तरफ से जोर आजमाइश के संकेत मिले। तो घर और बेटी में से गांव वालों ने बेटी को चुना और एक रात में सभी गांव वाले कुलधारा को छोड़कर चले गए। लेकिन जाते-जाते इस जगह को यह श्राप दे गए कि दोबारा इस इलाके में कोई नहीं बस पाएगा। वो दिन है और आज का दिन आज तक कुलधारा गांव वीरान पड़ा हुआ है।

ऐसा नहीं है कि लोगों ने दोबारा उस गांव में बसने की कोशिश नहीं की। लेकिन जो लोग कुलधारा गांव में बसने गए वो जल्द ही वहां से जुड़ी भयानक कहानियों के साथ उलटे पैर लौट आए। यह तो वो लोग थे जो खुशनसीब थे। कइयों के बारे में कइयों ने यह कहा कि वो कुलधारा गांव में बसने के लिए निकले तो लेकिन उसके बाद कभी दिखे ही नहीं। भूत के अलावा यहां की जमीन में कथित रुप से गड़ा सोना भी पर्यटकों को खूब आकर्षित करता है।

6) ग्रांड पैराडी टावर, मुंबई:-

मुंबई शहर अपनी गगनचुम्बी इमारतों के लिए जाना जाता है। लेकिन आसमान को छूती इन इमारतों में कई इमारतें ऐसी भी हैं जो खौफनाक होने के मामले में सातवें आसमान तक को छू जाती हैं। ऐसी ही एक इमारत है जिसका नाम है ग्रांड पैराडी टावर। इस टावर को मुंबई की सबसे भूतिया इमारत बताया जाता है। 1976 में बने इस इमारत के आठवीं मंजिल से कूदकर अब तक आठ लोग आत्महत्या कर चुके हैं। साल 2004 में एक बुजुर्ग दंपति ने इमारत के आठवें मंजिल से कूदकर अपनी जान दे दी थी। इस घटना के एक साल के भीतर उस परिवार के सभी सदस्यों ने एक-एक कर उसी मंजिल से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली। इसमें उस घर के सबसे छोटे बच्चे पोता-पोती भी शामिल थे। इसके बाद से इस इमारत को सुसाईड पॉइंट कहा जाने लगा। लोगों में यह धारणा बन गई कि उस मंजिल पर रहने वाले लोगों को अदृश्य शक्तियों द्वारा आत्महत्या के लिए उकसाया जाता है।

 7) राष्ट्रीय पुस्तकालय, कोलकाता:-

अपने काले जादू के लिए विश्वप्रसिद्ध बंगाल की राजधानी कोलकाता में भी एक ऐसी जगह है जिसका शुमार भारत की सबसे डरावनी और रहस्मयी जगहों में होता है। कोलकाता के राष्ट्रीय पुस्तकालय से कई तरह की रहस्यमयी घटनाएं आए दिन देखने और सुनने को मिलती हैं। इस पुस्तकालय को बनाते वक्त कुछ मजदूरों की मौत हो गई थी। यहां काम करने वाले गार्ड की मानें तो उन मजदूरों की आत्मा आज भी इस लाइब्रेरी में भटक रही है। ऐसा कहा जाता है कि हर रोज सुबह लाइब्रेरी खोलने पर पेपर और बाकी समान बिखरे पड़े मिलते हैं। इतना ही नहीं इस जगह की भयावहता को लेकर एक कहानी ऐसी भी है  जिससे कंपकपी छूट जाती है। पुस्तकालय से जुड़े लोगों का कहना है कि एक बार एक लड़का इस पुस्तकालय में गया फिर दोबारा लौटा ही नहीं।

8) ताज हॉटेल,मुंबई:-

अगर आप यह सोच रहे हैं कि यहां गेटवे ऑफ इंडिया से सटे जगप्रसिद्ध ताज हॉटेल की बजाय किसी और हॉटेल की बात हो रही है, तो आप गलत हैं। वैसे ताज हॉटेल को लेकर जो खूबसूरत छवि हमारे अंदर बनी हुई है, उसकी वजह से ऐसी गलती होनी लाजमी भी है। क्योंकि ताज हॉटेल की खूबसूरती से रू-ब-रू हुए लोगों में से ज्यादातर को इससे जुड़े एक खौफनाक पहलू की जानकारी ही नहीं है। जिस वास्तुकार ने ताज हॉटेल को बनाया था उसने इसी हॉटेल में आत्महत्या कर ली थी। आत्महत्या के पीछे का कारण यह बताया गया कि वास्तुकार जैसा चाहता था वैसा डिज़ाइन नहीं बना या नहीं रहा था। इस तनाव के चलते उसने खुदकुशी का कदम उठा लिया। तब से लेकर आज तक इस हॉटेल में ठहरने वाले कई मेहमानों ने इस बात को स्वीकार किया है कि उन्हें हॉटेल के कमरों में एक डरावने साए के अपने आसपास होने का एहसास हुआ है।

9) सेवॉय हॉटेल,मसूरी:-

हॉटेल और मसूरी का नाम पढ़ते ही आपके दिमाग में पिकनिक के ख्याल घूमने लगे होंगे। लेकिन ठहरिए, मसूरी में सिर्फ मन मोहक नजारे ही नहीं हैं बल्कि इसके अलावा दिल दहला देने वाली कई डरावनी जगहें भी हैं। सेवॉय हॉटेल उन्हीं डरावनी जगहों में से एक है। 1902 में बने इस हॉटेल से जुड़े भूतहा किस्से आसपास के इलाकों में बहुत चर्चित हैं। ऐसा कहा जाता है कि साल 1911 में गर्मियों के दिनों में इस हॉटेल के सबसे ऊपरी मंजिल पर एक महिला की लाश मिली थी। उसकी मौत कैसे हुई? किसने की? इन सवालों का जवाब तो नहीं मिला। लेकिन उसके बाद से उस हॉटेल में अजीबोगरीब घटनाओं का दौर जरूर शुरू हो गया। ऐसा माना जाता है कि उस महिला को जहर देकर मौत के घाट उतारा गया था। और उस महिला की आत्मा आज भी सेवॉय हॉटेल में अपने कातिलों की तलाश में भटक रही है।

10) राज किरण हॉटेल, लोनावाला:-

मुंबई और पुणे शहर के लिए ऊटी का काम करने वाले हिल स्टेशन लोनावाला पर साल के 12 महीने प्रकृति के सौंदर्य का मजा उठाने वाले लोगों का आना जाना लगा रहता है। क्योंकि यहां दूर-दूर से लोग आते हैं और कई दिनों तक ठहरते हैं, इसलिए यहां लोगों के रहने के लिए भी हॉटेलों की भरमार है। इन्हीं सब होटलों में से एक है लोनावाला का राज किरण हॉटेल। इस हॉटेल में एक ऐसा कमरा है जिसमें भूत होने की बात कही जाती है। दरअसल, शुरुआत में इस कमरे में ठहरने वाले ढेर सारे मेहमानों ने यह शिकायत की कि रात के वक्त रूम के अंदर अजीबोगरीब चीजें होने लगती हैं। कभी कोई बिस्तर का चादर खिंचने लगता है तो कभी खिड़की से अचानक तेज हवा चलने लगती है। ऐसी घटनाओं की बार-बार शिकायतों के बाद इस कमरे को हमेशा-हमेशा के लिए बंद कर दिया गया।

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com