महाराष्ट्र: आखिर गन्ना काटने वाली महिलायें क्यों करवा रही हैं गर्भाशय-उच्छेदन? राज्य महिला आयोग की उड़ी नींद

महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग ने बीड जिले के अधिकारियों को एक समाचार रिपोर्ट की जांच करने का आदेश दिया है. इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मासिक धर्म के कारण काम में बाधा और जुर्माना से बचने के लिये महिलायें गर्भाशय-उच्छेदन करवा रही हैं.

इससे पहले, महाराष्ट्र के मुख्य सचिव राष्ट्रीय महिला आयोग को समाचार रिपोर्ट के बारे में नोटिस जारी किया गया था. रिपोर्ट पर हैरानी जताते हुए महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग ने 10 अप्रैल को एक नोटिस जारी करते हुए बीड जिला कलेक्टर को निर्देश दिया था कि वह सच्चाई का पता लगायें और सख्ती से कार्रवाई करें.

एक अंग्रेजी दैनिक में छपे खबर के मुताबिक, महाराष्ट्र के बीड जिले में कई महिलाओं ने गर्भाशय-उच्छेदन (Hysterectomies) करवाया था. खबर के अनुसार, यह गावों में ‘नॉर्म’ है कि महिलाओं को दो या तीन बच्चों के बाद उनकी गर्भावस्था को दूर करने की आवश्यकता होती है, क्योंकि मासिक धर्म के दौरान जुर्माना भरना पड़ता है और काम करने में समस्या आती है.

आखिर महिलायें क्यों करवा रही हैं गर्भाशय-उच्छेदन (Hysterectomies) ?

एक खबर के मुताबिक, अक्टूबर से मार्च तक पश्चिमी महाराष्ट्र की चीनी बेल्ट में गन्ना काटने का मौसम होता है. इसी समय गन्ना काटने वाले वहां जाकर बस जाते हैं. जब क्षेत्र में सूखा पड़ता है, तो प्रवास दोगुना हो जाता है.

मासिक धर्म वाली महिलाओं से कॉन्ट्रैक्टरों को समस्या होती है, क्योंकि इससे महिलाओं के काम में रुकावट आती है. मासिक धर्म की वजह से जब महिलायें छुट्टी मांगती हैं, तो उनपर जुर्माना लगा दिया जाता है. इन बुरे परिणामों से गुजरने के बजाय वे गर्भाशय को हटवाना उचित समझती हैं.

कॉन्ट्रैक्टर्स का कहना है कि वे महिलाओं को Hysterectomy से होकर गुजरने के लिये मजबूर नहीं करते. यह महिलाओं का अपना पसंद है. हालांकि, महिलाओं का दावा है कि उन्होंने इस प्रक्रिया से होकर गुजरने का फैसला इसलिये किया है, क्योंकि वे किसी भी तरह के पैसे के नुकसान को नहीं सह सकती हैं.

महिलाओं को सर्जरी के लिये पैसा मुहैया कराया जाता है जो बाद में उनके मजदूरी में से काट लिया जाता है. Hysterectomy से महिलाओं का स्वास्थ्य बुरी तरह प्रभावित होता है. इसकी वजह से हार्मोनल असंतुलन हो सकता है. वजन कम हो सकता है. इसके अलावा भी तमाम स्वास्थ्य समस्याएँ आ सकती हैं.

~Shravan Pandey

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com