मेलबर्न टेस्ट मैच के तीन बेहद ही मज़ेदार किस्से….

47

इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच मैच चल रहा हो और खिलाड़ियों के बीच छींटाकशी ना हो….. क्या भला ऐसा हो सकता है! जी हां, ऐसा कभी नहीं हो सकता। इस बात का उदाहरण इस बार विकेट के पीछे खड़े होकर बल्लेबाज की टांग खिंचाई करते वक्त विकेट में लगी माइक में रिकॉर्ड हुईं मजेदार बातें है। तो चलिए भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर चल रहे तीसरे टेस्ट मैच के दौरान सामने आए कुछ ऐसे ही तीन मजेदार किस्सो से आपको रूबरू करवाते हैं।

पहला किस्सा है ऋषभ पंत और पेन का-

खेल के तीसरे दिन जब एक के बाद एक चार भारतीय बल्लेबाज Cummins की गेंद का शिकार होते चले गए। तब ऋषभ पंत के कंधे पर यह जिम्मेदारी आ गई कि वह संभलकर खेले और भारत की पारी को आगे बढ़ाए। लेकिन ऑस्ट्रेलियाई विकेटकीपर को ऐसा मंजूर नहीं था। उन्होंने ऋषभ पंत का ध्यान भंग करने के लिए उनपर तंज कसते हुए कहा कि धोनी के टीम में आ जाने के चलते उन्हें वनडे टीम में जगह नहीं मिल पाई है। ऐसे में अगर वह चाहे तो Hobart Hurricane के लिए खेल सकते हैं। इतना ही नहीं तो इसके बाद उन्होंने कहा कि अगर वह चाहे तो उनके घर Babysit का काम भी कर सकते हैं।

दूसरा किस्सा है रोहित शर्मा और पेन का-

पहली पारी में रोहित जब मैदान पर जमकर रन बना रहे थे और ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज उनका विकेट नहीं निकाल पा रहे थे, तब विकेट के पीछे खड़े पेन ने स्लेजिंग का सहारा लेकर रोहित को आउट कराना चाहा। उन्होंने सधी हुई बल्लेबाजी कर रहे रोहित शर्मा को यह कहकर उकसाना शुरू किया कि अगर रोहित छक्का मार देंगे, तो वह मुंबई इंडियंस को सपोर्ट करने शुरू कर देंगे। हालांकि रोहित शर्मा पर इसका कोई खास असर नहीं हुआ और ना ही उन्होंने उस वक्त इसका पलटकर जवाब ही दिया। लेकिन बाद में प्रेस कांफ्रेंस में पत्रकारों के सवाल का जवाब देते वक्त इस बात की चर्चा होने पर उन्होंने कहा कि अगर पेन ने शतक जमाया तो वह उन्हें मुंबई इंडियंस के लिए खरीद लेंगे।

तीसरा किस्सा है मार्श को बुमराह द्वारा चकमा दिए जाने का

भारत द्वारा 292 रन की बढ़त हासिल करने के बाद जब ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज मैदान पर उतरे, तब बुमराह ने अपनी धारदार गेंदबाजी से उनके छक्के छुड़ा दिए। लेकिन उनके द्वारा लिए गए कुल 6 विकटों में से सबसे खास था स्लो यॉर्कर के जरिए लिया गया शॉन मार्श का विकेट। दरअसल अपने ओवर की पहली पाँच गेंदे बुमराह ने 140 किमी/घंटा की रफ्तार से फेंकी। और इसके बाद आखिरी गेंद उन्होंने सिर्फ 111 किमी/घंटा रफ्तार से फेंक कर शॉन मार्श को एकदम से चौंका दिया। मार्श को लगा कि पहली पाँच गेंदों की तरह छठवीं गेंद भी बुमराह तेज ही फेंकेंगे। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। नतीजतन शॉन मार्श छठवीं गेंद को समय से पहले ही खेल गए। जिसके चलते गेंद बैट की बजाय उनके पैड पर जा लगी। और वह पगबाधा आउट हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here