मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर पर नौ महिलाओं ने लगाए अश्लील हरकत करने के आरोप

95
#MeToo कैंपेन की चपेट में आए मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं के रहीं है। हॉलीवुड से शुरू होकर बॉलीवुड पहुंचा #MeToo अभियान अब भारतीय राजनीति में भी तहलका मचा रहा है। और फिलहाल इसके सबसे बड़ा शिकार पत्रकार रह चुके केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर हुए है। सिर्फ तीन दिनों के भीतर ही उनके साथ कभी काम कर चुकी 9 महिला पत्रकारों ने एम जे अकबर पर अपने साथ बदसलूकी और आपत्तिजनक हरकत करने का इल्जाम लगाया है।
एमजे अकबर पर सबसे पहले पूर्व पत्रकार प्रिया रमानी ने अपने साथ आपत्तिजनक व्यवहार करने का आरोप लगाया। इसके बाद तो एक के बाद एक महिलाएं सामने आने लगी और अपने उन पुराने जख्मों के दर्द को सोशल मीडिया पर साझा करने लगीं, जो उन्हें कभी एमजे अकबर ने अपनी गंदी हरकतों से दी थी। देश के नामी गिरामी अखबारों के संपादक रह चुके और वर्तमान ने मोदी सरकार में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर ने अब तक अपने ऊपर लगे आरोपों पर कोई सफाई नहीं दी है। इतना ही नहीं तो केंद्र सरकार की तरफ से ही अब तक एम जे अकबर के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई हुई है।
MJ Akbarतो चलिए आज हम आपको उन महिला पत्रकारों की आप बीती बताते हैं, जिन्होंने बड़ी हिम्मत के साथ इस #MeToo अभियान से जुड़ते हुए अपने साथ एम जे अकबर द्वारा की गई बदसलुकियों को सार्वजनिक किया है;
1) एम जे अकबर पर #MeToo अभियान के तहत हमला करने वाली पहली पूर्व महिला पत्रकार प्रिया रमानी ने आरोप लगाया कि एम जे अकबर जब संपादक थे, तब वह हॉटेल रूम मद इंटरव्यू के दौरान कई महिला पत्रकारों के साथ अक्सर बेहद ही आपत्तिजनक हरकत किया करते थे।
2) 1995-97 से दौरान एशियन एज में काम करने वाली एक महिला पत्रकार ने बताया कि एम जे अकबर ने उन्हें एक बार अपने हॉटेल के कमरे में नाश्ता करने के लिए बुलाया था। लेकिन, एमजे अकबर की बदनीयती से वाकिफ होने चलते उन्होंने माफी मांगकर कमरे में आने से मना कर दिया।
3) 1993-96 के दरम्यान एमजे अकबर के साथ काम करने वाली एक महिला पत्रकार का आरोप है कि अखबार में काम करने के दौरान जब वह पहला पन्ना तैयार कर रही थी, तब उनके ठीक पीछे खड़े एम जे अकबर ने उनके कपड़े की स्ट्रिप खींचकर उनके कानों में कुछ कहा था। महिला पत्रकार को कान में कही बात तो नहीं याद लेकिन उन्हें याद है कि इस घटना से सहम कर उनकी चीखें निकल गईं थी।
Image result for प्रिया रमानी4) एमजे अकबर को मना करने का खामियाजा भुगत चुकी महिला पत्रकार ने आपबीती बताते हुए कहा कि एक बार एम जे अकबर ने उन्हें किसी काम पर चर्चा करने के लिए हॉटल में अपने कमरे में बुलाया था। लेकिन एम जे अकबर के चरित्र से परिचित महिला पत्रकार ने उन्हें मना कर दिया। जिसके बाद हुई एक सामुहिक मीटिंग में एम जे अकबर की तरफ से महिला पत्रकार को लेकर भद्दे कमेंट किए गए।
5) एक लेखिका ने भी 1995 में एम जे अकबर की आपत्तिजनक हरकत को लेकर अपना अनुभव साझा करते हुए बताया कि जब वह एम जे अकबर का इंटरव्यू लेने के लिए उनके कमरे में गई। तब एम जे अकबर ने उन्हें बिस्तर पर बैठकर इंटरव्यू लेने के लिए मजबूर किया। लेखिका के अनुसार उनके लिए ऐसा करना बहुत ही असहज था।
6) एम जे अकबर पर सबसे पहले इल्जाम लगाने वाली पत्रकार प्रिया रमानी के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए एक और महिला पत्रकार ने 2010-11 के दौरान अपने साथ एम जे अकबर पर अश्लील हरकत करने का इल्जाम लगाया।
Image result for जर्नलिस्ट सबा नकवी
7) एम जे अकबर पर सबसे ताजा आरोप अंग्रेजी अखबार एशियन की स्थानीय संपादक सुपर्णा शर्मा ने लगाया है। उन्होंने बताया कि साल 1990 में अखबार की लांचिंग के दौरान एम जे अकबर ने उनके साथ आपत्तिजनक हरकत की थी।
8)  जर्नलिस्ट गजाला वहाब ने अपने पुराने दिनों को याद करते हुए वहाब ने बताया- एक दिन अकबर ने जब मुझे अपने केबिन में बुलाया, तो वह अपना वीकली कॉलम लिख रहे थे। उन्होंने मुझे डिक्शनरी से कुछ शब्द ढूंढने के लिए कहा। शब्दों को ध्यान से देखने के लिए जब झुकी, तो उन्होंने मेरी छाती से लेकर कमर तक हाथ फेरा। मैं तब बहुत डर गई थी।
9) जर्नलिस्ट सबा नकवी ने अपने साथ हुए हैरासमेंट का जिक्र करते हुए अप्रत्यक्ष रूप से एम जे अकबर पर निशाना साधा। उन्होंने अपने साथ हुए दुराचार के लिए जिम्मेदार आदमी का नाम तो नहीं बताया, लेकिन हिंट देते हुए कहा कि उसका नाम ‘ग्रैंड मुगल सम्राट’ से मिलता जुलता है। इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया की उनके साथ बदसलूकी करने वाला व्यक्ति पहले बहुत बड़ा पत्रकार था और अब राजनेता बन गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here