शान की झलक/ रीना नरवाल, रोहतक

147

कौन कह सकता है वर्तमान भारत नहीं महान है
आओ जरा देखें, इसकी क्या शान है

कौन-सी बड़ी बात है?
बेघरों के पास मकान नहीं
भटकते सपनों का कोई मुकाम नहीं
एक गली तो कोई दिखाए
जिसमें पार्लर की दुकान नहीं
तो कौन कह सकता है, वर्तमान भारत महान नहीं…

कौन-सी बड़ी बात है?
सच्चाई का कोई इनाम नहीं
इंसान का कोई ईमान नहीं
एक नेता तो कोई बताए
जिसका सुर्खियों में नाम नहीं
तो कौन कह सकता है, वर्तमान भारत महान नहीं…

कौन-सी बड़ी बात है?
युवाओं के पास रोजगार नहीं
भविष्य के उज्ज्वल चिराग नहीं
एक विद्यार्थी तो कॉलेज में दिखाएँ
जिसके हाथ में सिगार नहीं
तो कौन कह सकता है, वर्तमान भारत महान नहीं…

कौन-सी बड़ी बात है?
दूसरों की खुशियाँ आती रास नहीं
निराशा के बाद कोई आस नहीं
एक इंसान तो कोई बताए
जो खुद को समझता खास नहीं
तो कौन कह सकता है, वर्तमान भारत महान नहीं…

कौन-सी बड़ी बात है?
साधु लेता संन्यास नहीं
सत्संग की कोई आस नहीं
एक वैरागी को कोई बताए
जिसे भोग-विलास की प्यास नहीं
तो कौन कह सकता है, वर्तमान भारत महान नहीं…

कौन-सी बड़ी बात है?
सफल हमारा लोकतंत्र नहीं
अब भी नारी स्वतंत्र नहीं
एक सत्ता तो कोई बताए
जिसके पास कुशासन का मंत्र नहीं
तो कौन कह सकता है, वर्तमान भारत महान नहीं…

कौन-सी बड़ी बात है?
कोई त्याग सकता खोट नहीं
अच्छाई को मिलता वोट नहीं
एक उम्मीदवार तो कोई बताए
जो चुनाव में बरसाता नोट नहीं
तो कौन कह सकता है, वर्तमान भारत महान नहीं…

कौन-सी बड़ी बात है?
भ्रष्टाचार में लगती देर नहीं
आतंकी होते ढेर नहीं
एक कुत्ता तो कोई बताए
जो अपनी गली में शेर नहीं तो कौन कह सकता है, वर्तमान भारत महान नहीं…

रीना नरवाल, रोहतक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here