सीरिया में हुए रासायनिक हमले में 80 से ज्यादा बेकसूरों ने गंवाई जान

सीरिया में पिछले सात साल से चल रहा खूनी संघर्ष थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीते सात सालों में इस खूनी संघर्ष के चलते अब तक बेहिसाब लोग अपनी जान गवां बैठे हैं। ताजा मामला सीरिया के पूर्वी गोता से सामने आया है। यहां शनिवार को हुए एक संदिग्ध रासायनिक हमले में विद्रोहियों के कब्जे वाले अंतिम शहर डौमा में 80 से अधिक मासूम मौत के मुंह में समा गए। मृतकों से जुड़ा यह आंकड़ा रविवार को चिकित्सकों और बचाव कर्मियों द्वारा दी गई है।

सीरिया

आरोपों के अनुसार, सीरियाई सरकार द्वारा हेलीकॉप्टर से विषाक्त नर्व एजेंट सरीन से युक्त बैरल बम गिराया गया। बीबीसी के मुताबिक, स्वयंसेवी बचाव दल वॉइट हैलमेट्स ने ग्राफिक तस्वीरें पोस्ट की जिसमें शनिवार को हुए हमले के बाद बेसमेंट में पड़े कई शव नजर आ रहे हैं। इसमें कहा गया है कि मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका है। सीरियाई अस्पतालों के साथ काम करने वाली एक अमेरिकी चैरिटी संस्था यूनियन मेडिकल रिलीफ ने बताया कि दमिश्क रूरल स्पेशलिटी हॉस्पिटल ने 80 लोगों के मौत की पुष्टि की है।

सीरिया

वहीं सीरियाई सरकार ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। सरकारी एजेंसी ने अपनी सेना पर लगे आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए उल्टे आतंकवादियों के सफाए के लिए चलाए जा रहे अपने अभियान में विरोधियों द्वारा खलल डालने की बात कही। सेना के अनुसार, सीरियाई सेना को किसी रासायनिक चीज का इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं है। उनके बारे में ऐसा दुष्प्रचार आतंकियों के लिए सॉफ्ट कॉर्नर रखने वाली मीडिया द्वारा फैलाया जा रहा है। विपक्ष समर्थक गोता मीडिया सेंटर ने कहा कि 75 से अधिक लोगों का दम घुट गया, जबकि हजारों लोगों को सांस लेने में तकलीफ से जूझना पड़ा।

सीरिया

कथित रासायनिक हमले को लेकर अमेरिका ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आरोपों के अनुसार सीरिया सरकार द्वारा किए गए इस हमले की भारी कीमत चुकाने की चेतावनी दी है। अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमने कई परेशान कर देने वाली रिपोर्ट देखी। सीरियाई सरकार का अपने लोगों के खिलाफ रासायनिक हथियारों को इस्तेमाल करने का इतिहास रहा है।’ सरीन नर्व एजेंट का इस्तेमाल सीरिया में पहले भी हो चुका है।

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com