SmartPhone में विस्फ़ोट के चलते हुई CEO की मौत, जानिए स्मार्टफ़ोन विस्फ़ोट से बचने के उपाय

हाल ही में स्मार्टफ़ोन (SmartPhone) में विस्फ़ोट होने की वज़ह से एक मलेशियाई CEO की मौत हो गई। यद्यपि फ़ोन के असली कंपनी का पता नहीं चल सका है मग़र माना जा रहा है कि क्रेडल फण्ड के CEO नजरीन हासन Blackberry और Huawei के डिवाइस का इस्तेमाल कर रहे थे। संयोग से, स्मार्टफ़ोन में आग लगने से होने वाली मौत का यह कोई अकेल मामला नहीं है। इससे पहले भी ऐसे मामले सामने आते रहे हैं, भारत भी इसका गवाह है। इन स्मार्टफ़ोन में विस्फ़ोट होने का बहुत बड़ा कारण इनकी बैटरी है। स्मार्टफ़ोन में लिथियम आयन बैटरी का इस्तेमाल होता है। ये खुद भी गर्म होते हैं और चार्ज करते वक़्त और भी गर्म हो जाते हैं।

हालांकि, इससे बचने का कोई पक्का रास्ता नहीं है मग़र कुछ साधारण तरीकों का इस्तेमाल कर हम इसमें 95 फीसदी तक कमी ला सकते हैं। यहां ऐसे ही 9 टिप्स हैं जिनकी मदद से हम अपने स्मार्टफ़ोन (SmartPhone) में आग लगने की घटना को रोक सकते हैं।

1. ओरिजिनल चार्जर का करें इस्तेमाल:- हमेशा उसी चार्जर का इस्तेमाल करें जो आपके स्मार्टफ़ोन (SmartPhone) के साथ कंपनी देती है। चार्जर खोने या बेकार होने की स्थिति में इसके बदले हमेशा ब्रांडेड चार्जर ही खरीदना चाहिए। नकली या अनब्रांडेड चार्जर के इस्तेमाल से ख़तरा काफ़ी हद तक बढ़ जाता है।

2. कंपनी के ही बैटरी का इस्तेमाल करें:- ओरिजिनल चार्जर की ही तरह ओरिजिनल बैटरी का इस्तेमाल जरूरी है। अग़र आपके स्मार्टफ़ोन की बैटरी बेकार हो गई हो तो ध्यान रखें कि उसके बदले ओरिजिनल बैटरी ही लें।

3. लंबे समय तक चार्जिंग करने से बचें:- अपने फ़ोन लंबे समय तक चार्जिंग में रखने वाली आदत को छोड़ दें क्योंकि लंबे समय तक चार्जिंग करने से ओवरहीटिंग हो सकता है। इसलिए, चार्जिंग पूरा होने के बाद उसे अनप्लग करना न भूलें।

4. डायरेक्ट सनलाइट से बचायें:- डायरेक्ट सनलाइट में अपने फ़ोन को चार्ज करने से बचें। कार के डैशबोर्ड के पास रखकर मोबाइल को बिल्कुल चार्ज न करें, खासकर दिन के समय वो भी लंबे समय तक। यह गर्म होने की समस्या को और भी बुरा बना सकता है। मोबाइल को चार्ज करने का स्वीकृत तापमान 0 से लेकर 45 डिग्री सेंटीग्रेड तक है।

5. सिर्फ़ मान्य सेंटर पर ही अपना स्मार्टफोन रिपेयर करवाएं:- इस बात पर भी ध्यान देने की खास जरूरत है। सिर्फ़ मान्य सर्विस सेंटर पर ही अपने स्मार्टफ़ोन (SmartPhone) की रिपेयरिंग करवाएं। हां, इस बात को भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि रिपेयरिंग के दौरान कोई भी ओरिजिनल पार्ट या सर्किटरी प्रभावित न हो।

6. कभी भी अनइवन सरफेस पर मोबाइल चार्ज न करें:- हम लोगों में से कई लोग ऐसे हैं जो इस आदत से परेशान हैं। हम कई बार मोबाइल को तकिए के नीचे चार्ज होने के लिए छोड़ देते हैं। इससे स्मार्टफ़ोन (SmartPhone) ओवरहीट हो सकता है और आग लग सकती है।

7. पॉवर स्ट्रीप एक्सटेंशन कॉर्ड में फ़ोन चार्ज करने से बचें:- एहतियातन यह सुझाव दिया जाता है कि अपने स्मार्टफ़ोन (SmartPhone) को पॉवर स्ट्रीप एक्सटेंशन कॉर्ड में चार्ज न करें। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि अग़र कॉर्ड के सॉकेट में लगा एक भी डिवाइस इस चीज़ से प्रभावित होगा तो यह तय है कि आपका भी डैमेज हो जाएगा।

8. दबाव न डालें:- अगला कोई चीज़ है जिससे स्मार्टफ़ोन (SmartPhone) को बचाना चाहिए तो वो है दबाव। कहने का मतलब कि अपने बैग में किसी भारी सामान के नीचे इसे न रखें।

9. चार्जिंग करते वक़्त केस निकाल दें:- माना कि यह हमेशा संभव नहीं है कि केस को निकालकर चार्जिंग किया जाए मग़र जब भी ऐसा संभव हो तब केस निकालकर ही चार्ज करें। मोबाइल के ऊपर लगा केस चार्जिंग के दौरान हीट को ग़ायब होने से रोकता है जिसकी वजह से आग लगने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com