15 फरवरी को पीएम मोदी Train 18 को दिल्ली रेलवे स्टेशन से दिखाएंगे हरी झंडी, जानें ट्रेन की खासियत

56

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वदेशी निर्मित Train 18 को 15 फरवरी को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से हरी झंडी दिखाएंगे। इस ट्रेन का नाम Vande Bharat Express रखा गया है। रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी है।

मुख्य बातें:-

1. Train 18 को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से सुबह 10:00 बजे दिखाई जाएगी हरी झंडी

2. ट्रेन को हरी झंडी दिखाने के अलावा पीएम मोदी लोगों को संबोधित करेंगे

3. यह ट्रेन 8 घंटे में 795 किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है, जो अन्य तेज गति की ट्रेनों के मुकाबले 35 प्रतिशत ज्यादा होगी

Train 18 देश की पहली बगैर-इंजन वाली ट्रेन है। इसे चेन्नई में इंटीग्रल कोच फैक्ट्री द्वारा निर्मित किया गया है। इस ट्रेन को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से सुबह 10:00 बजे रवाना किया जाएगा। बुधवार को रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि Train 18 को हरी झंडी दिखाने के अलावा पीएम मोदी लोगों को संबोधित करेंगे।

नई दिल्ली से वाराणसी के लिए एक्सक्यूटिव क्लास में सफर करने वाले यात्रियों को सुबह के चाय ब्रेकफास्ट और लंच के लिए ₹399 भरने होंगे जबकि चेयर कार में सफर करने वाले यात्रियों को इसके लिए ₹344 चुकाना होगा।

नई दिल्ली से कानपुर और प्रयागराज तक एक्सक्यूटिव क्लास में सफर करने वाले यात्रियों को ₹155 जबकि चेयर कार में सफर करने वाले यात्रियों को ₹122 का भुगतान करना होगा।

वाराणसी से नई दिल्ली के लिए एक्सक्यूटिव क्लास के यात्रियों को ₹349 जबकि चेयर क्लास के यात्रियों को ₹288 देने होंगे। इन यात्रियों को शाम की चाय के साथ स्नैक्स और रात्रि का भोजन दिया जाएगा।

इससे पहले रेल मंत्रालय ने इंगित किया था कि Train 18 का किराया Shatabdi Express के किराए से 40 से 50 प्रतिशत ज्यादा होगा। Train 18 हाल ही में ट्रायल रन के दौरान 180 किमी प्रति घंटे से अधिक की गति से चलने के बाद भारत की सबसे तेज ट्रेन बन गई। यह जल्द ही शताब्दी एक्सप्रेेस ट्रेन की जगह ले लेगी और दिल्ली और वाराणसी के बीच चलेगी।

चकाचौंध भरी नीली रंग की ट्रेन विश्वस्तरीय सुविधाओं से सुसज्जित है। हाई-स्पीड, ऑन-बोर्ड वाईफाई, जीपीएस-आधारित यात्री सूचना प्रणाली, टच-फ्री बायो-वैक्यूम शौचालय, एलईडी लाइटिंग, मोबाइल चार्जिंग पॉइंट जैसी सुविधाएं इसकी खासियत है। इसमें एक जलवायु नियंत्रण प्रणाली है जो तदनुसार तापमान को समायोजित करती है।

16-कोच वाली इस ट्रेन में दो एक्सक्यूटिव डिब्बे होंगे जिनमें 52 सीटें होंगी। जबकि ट्रेलर कोच में प्रत्येक में 78 सीटें होंगी। एक्सक्यूटिव क्लास में ट्रेन की दिशा से मिलान करने के लिए घूमने वाली सीटें होंगी।

~Shravan Pandey

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here