90% हिंदी औऱ 80% बंगाली बोलने वाले सिर्फ़ एक भाषा जानते हैं; उर्दू बोलने वाले ज्यादातर हैं बहुभाषी: रिपोर्ट

भारत में भाषाओं की जटिलता और उनके प्रति लगाव की एक साफ़ सुथरी तस्वीर पेश करता है यह रिपोर्ट। रिपोर्ट का दावा है कि 90% हिंदी और 80% बंगाली बोलने वाले सिर्फ़ एक भाषा जानते हैं जबकि उर्दू बोलने वाले लोग ज़्यादातर बहुभाषी हैं।

TOI के रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में निर्धारित 22 भाषाओं में से 79% सिंधी बोलने वाले और 82% कोंकणी बोलने वाले द्विभाषी थे। इससे सिद्ध होता है कि छोटे भाषा समूह अन्य के मुकाबले ज़्यादा बहुभाषी होते हैं।

बंगाली और हिंदी बोलने वाले लोग भारत में सबसे बड़ा भाषाई समूह होने के बावजूद कम से कम बहुभाषी होते हैं। इस समूह का बहुत छोटा हिस्सा ही अन्य भाषा को जानता है।

तीन सर्वाधिक बहुभाषी समूह

दूसरी तरफ़, उर्दू बोलने वाले लोग सबसे ज्यादा बहुभाषी हैं। उर्दू इन लोगों की मातृभाषा है। कम से कम 62% लोग दूसरी भाषा को जानते हैं। यह भाषा अक़्सर हिंदी भाषा होती है।

53% पंजाबी एक और भाषा जानते हैं। उर्दू बोलने वाले लोगों के बाद सर्वाधिक बहुभाषी के मामले में इनका ही नाम आता है। भाषा के आधार पर जारी किए गए हालिया जनगणना आंकड़ों के अनुसार, द्विभाषी पंजाबी 87% हिंदी और 11% अंग्रेजी जानते थे।

निर्धारित भाषाओं में से 3 भाषाओं को बोलने वाला सबसे बड़ा समूह भी पंजाबियों का है। जो पंजाबी 3 भाषा बोलते हैं उनमें से 17% हिंदी जानते हैं जबकि 82% अंग्रेजी जानते हैं। मराठी बोलने वाले लोग तीसरा सबसे बड़ा भाषाई समूह हैं। इनमें से 47% लोग दूसरी भाषा को जानते हैं। इनमें से 88% लोग हिंदी बोलते हैं।

कम से कम बहुभाषी समूह

520 मिलियन हिंदी भाषियों में से मात्र 12% द्विभाषी थे। इनमें से 32 मिलियन लोग अंग्रेजी जानते थे। उत्तर भारत से महाराष्ट्र की तरफ़ स्थानांतरण करने वाले हिंदी भाषी लोगों का आंकड़ा यह दर्शाता है कि उनमें से 60.5 लाख लोग मराठी जानते थे। उनमें से 79 लाख लोगों के बीच 32 लाख त्रिभाषी हिंदी बोलने वाले लोग तीसरी भाषा के तौर पर अंग्रेजी बोलते हैं।

दूसरी तरफ, 17 मिलियन बंगाली बोलने वालों में से मात्र 18% द्विभाषी थे। हिंदी ऐसी भाषा है जो इस समूह का आधा हिस्सा बोलता था। दक्षिण में, मलयालम और कन्नड़ बोलने वालों के बीच 27% लोग और तेलुगु तथा तमिल बोलने वालों के बीच 25% लोग द्विभाषी थे। जहाँ उत्तर में सर्वाधिक द्विभाषी लोग दूसरी भाषा के रूप में हिंदी जानते थे वहीं दक्षिण में अंग्रेजी बोलते थे।

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com