#BirdBathChallenge का हिस्सा बनें और इस गर्मी में पक्षियों को कूल रहने में मदद करें

जैसा कि अप्रैल का महीना शुरू हो गया है और पारा चढ़ता जा रहा है। आसमान से आग बरसने लगा है। यही वह समय है जब जलाशयों का सूखना शुरू हो जाता है। मनुष्य तो कहीं न कहीं से अपने लिए पानी का इंतजाम कर लेता है मग़र पशु-पक्षियों को दर दर भटकने के बाद भी कई बार पानी नहीं मिलता औऱ प्यास से तड़पकर उनकी जान चली जाती है।

देश के कई हिस्सों में तापमान निरंतर बढ़ता जा रहा है। ऐसे में आईटी प्रोफेशनल के एक ग्रुप ने एक आसान मगर बहुत ही कारगर तरीका अपनाया है, जिससे हमारे छोटे-छोटे पक्षियों को इस जानलेवा गर्मी से बचाया जा सकता है। Progressive Techies नामक एक ग्रुप में कई लोग हैं जो केरल के कोच्चि में अलग-अलग आईटी कंपनी में काम करते हैं।

इन लोगों ने 3 अप्रैल को हैशटैग बर्ड बाथ चैलेंज की शुरुआत की ताकि इस गर्मी के मौसम में पक्षियों को राहत दिया जा सके।

क्या है BirdBathChallenge?

इस चैलेंज को एक्सेप्ट करने वालों को एक बर्तन या साफ पानी से भरा एक कटोरा रखना चाहिए जो पक्षियों के लिए राहत के रूप में काम आएगा। चैलेंज को इको-फ्रेंडली बनाने के लिए प्लास्टिक के बजाय मिट्टी के बर्तन का उपयोग करना चाहिए और इसे अपने घरों या कार्यक्षेत्रों के बाहर रखना चाहिए।

Progressive Techies ने कथित तौर पर इस तरह की चुनौती शुरू करने का फैसला किया, क्योंकि उनमें से कुछ ने पहले ही चुनौती को सफलतापूर्वक लागू कर दिया था।

Progressive Techies के एक सदस्य अनीश पंथलानी ने द न्यूज मिनट को बताया, “हालांकि इस तरह की चुनौती अपनी तरह की पहली चुनौती थी, हमने अभियान की व्यवहार्यता और प्रभाव का परीक्षण किया है। हममें से कुछ ने अपने घरों में इसका प्रयोग करना शुरू कर दिया था और यह बहुत सफल पाया गया था। हालाँकि पहले कुछ दिनों में केवल एक या दो पक्षी दिखाई देते थे, अब लगातार और कई तरह के पक्षी आते हैं।”

चुनौती को आगे बढ़ाने के लिए चुनौती स्वीकार करने वालों को पक्षी कटोरे के साथ एक तस्वीर पर क्लिक करना होगा और फिर सोशल मीडिया पर चुनौती लेने के लिए पांच अन्य लोगों को टैग करना होगा। यद्यपि पक्षी भोजन से कुछ नमी निकाल सकते हैं फ़िर भी उन्हें हर दिन पानी पीने की जरूरत होती है। पीने के अलावा, पक्षी इसमें स्नान भी कर सकते हैं।

चूंकि पक्षी पानी के मानव-निर्मित स्रोतों का उपयोग करने के लिए अनिच्छुक होते हैं। इसलिए आयोजकों ने लोगों से आग्रह किया है कि वे एकांत स्थानों जैसे कि बगीचे में या पेड़ की छाँव में बर्तन रखें, जहाँ पक्षी आ सकें और इस चिलचिलाती गर्मी में ताज़े पानी का उपयोग कर सकें।

गर्मियों के मौसम के दौरान, जबकि हम अपना ख्याल रखना और हाइड्रेटेड रहना याद करते हैं, हम अक्सर अपने प्यारे और पंख वाले दोस्तों के बारे में भूल जाते हैं। चिलचिलाती गर्मी से कोई राहत या पानी नहीं मिलने के कारण ये असहाय प्राणी इधर उधर भटकते रहते हैं।

Uvayu.com एक अनोखी चुनौती के रूप में अपनी अनूठी पहल के लिए Progressive Techies के समूह की सराहना करता है। उम्मीद है कि और भी अधिक लोग इस स्थिति से अवगत होंगे और ऐसा ही एक सराहनीय कदम उठाएंगे।

~Shravan Pandey

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com