Fact Box: अमेरिका बनाएगा सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर Aurora, जानें इसकी ख़ासियत

अमेरिका ने टेक्नोलॉजी की दुनिया में एक और बड़ा कदम बढ़ा लिया है। अमेरिका ने अब तक के इतिहास में सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर को बनाने का फ़ैसला किया है। इस सुपर कंप्यूटर का नाम है, ऑरोरा ( Aurora )। इसे बनाने के लिए Intel, यूएस डिपार्टमेंट ऑफ़ एनर्जी तथा क्रे (CRAY) के मध्य समझौता किया गया है। इन तीनों संस्थाओं का सामूहिक प्रयास होगा कि साल 2021 तक Aurora को डिलीवर कर दिया जाये। Aurora सुपर कंप्यूटर की बड़ी ख़ासियत यह है कि यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) तथा साधारण एचपीसी वर्कलोड को हैंडल करने में सक्षम होगा।

प्रति सेकंड एक बिलियन गणनाएँ करने में सक्षम होगा यह सुपर कंप्यूटर Aurora

Aurora सुपर कंप्यूटर को शिकागो के बाहर Lemont, Illinois स्थित आरगॉन नेशनल लेबोरेटरी में स्थापित किया जायेगा। यह दुनिया का पहला ऐसा सुपर कंप्यूटर होगा जो एक्ज़ास्केल अर्थात् प्रति सेकंड एक बिलियन गणनाएँ करने में सक्षम होगा। Aurora की स्पीड अब तक बनाए गए सबसे शक्तिशाली कंप्यूटर से सात गुनी अधिक होगी, जबकि साल 2008 में बनाए गए पेटास्केल से 1,000 गुना अधिक होगी।

दुनिया का सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर है IBM का OLCF-4

इस सुपर कंप्यूटर से रिसर्चरों को मेडिसिन, क्लाइमेट चेंज, दहन इंजनों की इंटरनल वर्क मेथड और सोलर पैनल जैसे विषयों के बारे में अधिक सटीक समझ विकसित करने में मदद मिलेगी। इस सुपर कंप्यूटर को संयुक्त राज्य अमेरिका ( USA ) की ओक रिज नेशनल लेबोरेटरी के लिए बनाया गया है। IBM का OLCF-4 दुनिया का सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर है। OLCF-4 की गति 143.5 पेटाफ्लॉप्स है।

आइये एक नजर डालते हैं भारत में सुपर कंप्यूटर के इतिहास पर

1. साल 1991 में भारत के पहले सुपर कंप्यूटर PARAM 8000 को लॉन्च किया गया था।

2. इसके बाद नंबर आता है सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर प्रत्युष का। प्रत्युष को भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान में लगाया गया। इसकी स्पीड 4.0 पेटाफ्लॉप्स है।

3. नेशनल सेंटर फॉर मीडियम-रेंज वेदर फोरकास्टिंग में मिहिर नामक सुपरकंप्यूटर लगाया गया है। मिहिर की स्पीड 2.8 पेटाफ्लॉप्स है।

सुपर कंप्यूटर के स्पीड स्टैण्डर्ड

सुपर कंप्यूटर टेराफ्लॉप्स, पेटाफ्लॉप्स और एक्ज़ाफ्लॉप्स के हिसाब से गणनाएं करते हैं। इन्हें ही सुपर कंप्यूटर के स्पीड स्टैण्डर्ड कहते हैं। टेराफ्लॉप्स कंप्यूटिंग स्पीड की इकाई है। एक मिलियन (10 ^ 12) फ्लोटिंग-पॉइंट ऑपरेशंस प्रति सेकंड (FLOPS) होते हैं। पेटाफ्लॉप्स में एक हज़ार मिलियन (10 ^ 15) फ्लोटिंग-पॉइंट ऑपरेशंस प्रति सेकंड होते हैं। एक्ज़ाफ्लॉप्स में एक बिलियन (10 ^ 18) फ्लोटिंग-पॉइंट ऑपरेशंस प्रति सेकंड होते हैं।

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com