Hina Jaiswal, इंडियन एयरफोर्स की पहली महिला फ्लाइट इंजिनियर

94

इतिहास के पन्नों में एक और इजाफा हुआ है। यह पन्ना है Flight Lieutenant Hina Jaiswal के नाम। भारत को Hina Jaiswal के रूप में इसकी पहली महिला फ्लाइट इंजिनियर मिल गई हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, Hina Jaiswal ने 15 फरवरी को 6 महीने का Flight Engineer कोर्स पूरा किया है। उन्होंने यह कोर्स 112 हेलिकॉप्टर यूनिट, एयरफोर्स स्टेशन, येलाहंका, बेंगलुरु से किया है।

Hina Jaiswal को एक हेलीकाप्टर स्क्वाड्रन पर पोस्ट किया जायेगा जहां वह सियाचिन ग्लेशियर से लेकर अंडमान और निकोबार द्वीप समूह जैसे कठिन परिस्थितियों में इंडियन एयरफोर्स सेना के जटिल विमानों की निगरानी और संचालन करेंगी।

Hina Jaiswal ने महान समर्पण, बेधडक प्रतिबद्धता दिखाई: रिलीज

एक फ्लाइट इंजीनियर विमान की उड़ान के चालक दल का सदस्य होता/होती है। वह विभिन्न कौशल सेटों में एक विशेषज्ञ होता/होती है, जो तनावपूर्ण परिस्थितियों के परीक्षणों को दूर करने के बाद जटिल विमान प्रणालियों का संचालन और निगरानी करता/करती है।

बचपन से ही, Hina Jaiswal एक विमान चालक और सैनिक बनना चाहती थीं। उन्होंने अपना स्कूल शिशु निकेतन मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल, सेक्टर 22 में किया। हिना ने पंजाब में यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (UIET) से इलेक्ट्रॉनिक्स में अपनी इंजीनियरिंग पूरी की। उन्हें 5 जनवरी 2015 को कमीशन दिया गया था।

हिना ने अपनी उपलब्धि को “सपने के सच होने” के रूप में वर्णित किया। एक रिपोर्ट के मुताबिक, उनकी माँ एक गृहिणी हैं और उनके पिता हाल ही में नई दिल्ली में रक्षा लेखा के प्रधान नियंत्रक (PCDA) पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। Hina Jaiswal ने अपने कोर्स के दौरान व्यापक प्रशिक्षण लिया और अपने समकक्षों को कड़ी चुनौती दी। एक रिलीज के अनुसार, उन्होंने महान समर्पण, बेधडक प्रतिबद्धता और दृढ़ता दिखाई।

महत्वपूर्ण जानकारी: भारतीय रक्षा बलों ने पिछले कुछ दशकों में लैंगिक समावेशी बनने के लिए कई कदम उठाए हैं। भारतीय वायु सेना ( Indian Air Force ) में 13.09 प्रतिशत महिला अधिकारी हैं, जो भारत की तीनों रक्षा बलों में सबसे अधिक है। भारतीय नौसेना बल ( Indian Navy Force ) में 6% महिला अधिकारी हैं और भारतीय सेना ( Indian Army ) में केवल 3.80% महिला अधिकारी हैं।

साल 1993 से, भारतीय वायु सेना ने अधिकारियों के कैडर में महिलाओं को नियुक्त किया है और उन्हें पायलट के रूप में सफलतापूर्वक शामिल किया है। uvayu.com , Hina Jaiswal के इस महान उपलब्धि के लिए बधाई देता है। हिना जायसवाल ने अन्य लड़कियों को प्रेरित करते हुए यह साबित कर दिया है कि सपने और आकांक्षाएं कोई सीमा नहीं जानतीं।

~Shravan Pandey

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here