JusticeForZakaria: 6 साल के बच्चे के मर्डर का शिया एंगल! आख़िर सच क्या है?

इस वक़्त ट्विटर पर हैशटैग JusticeForZakaria चल रहा है। अब इसके ट्रेंड होने के पीछे वजह क्या है उसे भी जानना जरूरी है। तो चलिए जान ही लेते हैं, अचानक यह Justice वाला हैशटैग एक बार फिर कैसे ट्रेंड होने लगा है। दरअसल, Zakaria एक बच्चे का नाम है जिसकी उम्र 6 साल बताई जा रही है। ख़बर है कि इस बच्चे की हत्या उसके मां की आँखों के सामने की गई है। यह घटना सऊदी अरब की है। अब इस बच्चे Zakaria को इंसाफ़ दिलाने की कवायद में ट्विटर पर हैशटैग JusticeForZakaria ट्रेंड कर रहा है। इस बच्चे का पूरा नाम है जकारिया अल-जबेर।

यह घटना मुसलमानों के पवित्र शहर मदीना की है। यहां सरेआम एक टैक्सी ड्राइवर एक बच्चे का गला काट देता है और कोई कुछ नहीं कर पाता है। इस घटना के बाद सऊदी में अल्पसंख्यक कहे जाने वाले शिया संगठनों ने आरोप लगाया है कि उस बच्चे की हत्या इसलिए की गई है क्योंकि वह शिया था।

लेक़िन अब नजऱ डालते हैं इस ख़बर के उन तमाम एंगलों पर जो अपने-अपने सुविधानुसार जोड़े जा रहे हैं। किसी ने इसी ख़बर को सुन्नी-शिया का एंगल दिया है तो किसी ने मारने वाले को मानसिक रूप से बीमार बताया है। जब किसी ख़बर में अलग-अलग एंगल मिलने लगता है तब उसकी विश्वसनीयता पर सवाल उठने लगता है। तो इसकी विश्वसनीयता यह है कि यह ख़बर कई न्यूज़ एजेंसियों और वेबसाइट पर है। यह ख़बर आपको सऊदी अरब की वेबसाइट पर भी मिल जाएगी।

क्या कहता है शिया राइट्स वॉच?

शिया मुसलमानों के एक संगठन ‘शिया राइट्स वॉच’ की मानें तो Zakaria अपनी मां के साथ हजरत मुहम्मद की कब्र पर जा रहा था। यह कब्र मदीना में है। मां और बेटे दोनों टैक्सी में थे। रास्ते में एक जगह बच्चे की मां ने कोई दुआ पढ़ी। ये दुआ खास शिया मुस्लिम ही पढ़ते हैं। ये सुनकर टैक्सी ड्राइवर ने उनसे पूछा, कि क्या वो शिया मुसलमान हैं। बच्चे की मां ने जवाब दिया, हां। इसके बाद बच्चे को भूख लगी। उसने मां से कुछ खाने को मांगा। मां ने ड्राइवर से सड़क किनारे कार रोकने को कहा ताकि वह पास के किसी दुकान से कुछ खाने-पीने की चीज खरीद सके। लेक़िन कई रिपोर्ट्स में इस बात का ज़िक्र है कि ड्राइवर ने खुद ही कार रोकी थी। फिर उसने एक कांच की बोतल फोड़ी और उसी टूटे हुए कांच के टुकड़े से बच्चे का गला काट दिया।

रोती बिलखती रही मां, उस बेरहम ने रेत दिया मासूम का गला

शिया राइट्स वॉच के मुताबिक, ड्राइवर ने Zakaria के सिर को पीछे की तरफ से काटा। ड्राइवर ने यह सब उस बच्चे की मां के मौजूदगी में किया। एक असहाय मां रो रही थी, चिल्ला रही थी और फिर बेहोश हो गई। बड़ी बात तो यह है कि इस घटना को रात के अंधेरे में नहीं, बल्कि दिन के उजाले में अंजाम दिया गया। वहां मौजूूद भीड़ तमाशाा देखते रह गई और एक मासूम बच्चे की सरेआम हत्या कर दी गई। सन न्यूज़ के मुताबिक, पास ही में मौजूद एक पुलिसवाले ने ड्राइवर को रोकने की कोशिश की। मगर वो बच्चे को नहीं बचा सका।

सऊदी गजेट के मुताबिक, 35 साल के जिस आदमी ने हत्या की वो मानसिक तौर पर बीमार है। घटना वाले दिन वो एक कॉफी शॉप के बाहर बैठा था। उसने देखा, एक बच्चा Zakaria अपनी मां के साथ जा रहा है। हत्यारा उस पर झपटा। पास में एक बोतल पड़ी थी। उसे फोड़ा और उस टूटे कांच से बच्चे पर हमले कर दिया। इस न्यूज के मुताबिक, जबेर की मां जेद्दाह में रहती हैं। उन्हें दिल की बीमारी है। वो मदीना दुआ मांगने आई थीं। जिस समय घटना हुई, उस समय वो जबेर के साथ एक रेस्तरां जा रही थीं।न्यूज के मुताबिक, इस घटना को शिया वाला ऐंगल देना गलती है। लेकिन सऊदी गजट कि इस खबर को सुनने के बाद थोड़ा अजीब यह लगता है की अगर कोई व्यक्ति मानसिक तौर पर बीमार है तो वह अचानक से बच्चे को देख कर इस तरह से प्रतिक्रिया करें यह समझ से परे है।

वहीं दूसरी तरफ शिया समुदाय के लोग यह कह रहे हैं कि यह घटना सांप्रदायिक नफरत मामला है। सऊदी सुन्नी मुसलमानों की नुमाइंदगी करता है। इस्लाम की उनकी परिभाषा शियाओं को मुसलमान ही नहीं मानती। वहां शिया अल्पसंख्यक हैं, जिन पर आए दिन हमले होते हैं। इस घटना की सच्ची वजह कुछ भी हो लेकिन यह घटना किसी खौफनाक मंजर से कम नहीं कि एक छोटे से 6 साल के बच्चे का गला काटने के लिए कोई भी वजह ढूंढ ली जाए आखिर उस बच्चे का क्या दोष जिसे धर्म के बारे में कुछ पता ही ना हो।

~Shravan Pandey

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com