Pulwama Attack: भारत ने पाकिस्तान से Most Favoured Nation का दर्जा वापस लिया, जानें इसका मतलब

पुलवामा में CRPF के 44 जवानों के शहादत के ठीक एक दिन बाद भारत सरकार ने पकिस्तान को दिया हुआ Most Favoured Nation का दर्जा वापस ले लिया है। बता दें कि कल यानी 14 फरवरी 2019 को हुए एक भीषण बम विस्फोट ने देश के 44 जवानों की जिंदगी ले ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि विदेश मंत्रालय पाकिस्तान का अंतरराष्ट्रीय समुदाय से पूर्ण अलगाव सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कदम उठाएगा, जिसमें आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा किए गए हमले में हाथ होने की आशंका है।

क्या है Most Favoured Nation का दर्जा ?

विश्व व्यापार संगठन ( WTO ) के सभी साझेदार देशों के बीच गैर-भेदभावपूर्ण व्यापार को सुनिश्चित करने के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय व्यापार भागीदार को Most Favoured Nation का दर्जा दिया जाता है। एक देश जो दूसरे देश को Most Favoured Nation का दर्जा प्रदान करता है, उसे व्यापार समझौतों में रियायतें, विशेषाधिकार और प्रतिरक्षा प्रदान करनी होती है। यह टैरिफ एंड ट्रेड (GATT) के जनरल एग्रीमेंट में पहला क्लॉज है।

“चूंकि, भारत और पाकिस्तान विश्व व्यापार संगठन का हिस्सा हैं, दोनों को एक-दूसरे और अन्य साझेदार देशों को Most Favoured Nation का दर्जा देने की आवश्यकता होती है।”

विश्व व्यापार संगठन ( WTO ) के नियमों के तहत, एक सदस्य देश को व्यापार भागीदारों के बीच भेदभाव करने की अनुमति नहीं है। यदि एक व्यापार भागीदार को एक विशेष दर्जा दिया जाता है, तो उस देश को विश्व व्यापार संगठन के सभी सदस्यों के लिए इसका विस्तार करना आवश्यक होता है।

Most Favoured Nation एक गैर-भेदभावपूर्ण व्यापार नीति है क्योंकि यह सभी WTO सदस्य देशों के बीच विशेष व्यापार विशेषाधिकार के बजाय समान व्यापार सुनिश्चित करता है। चूंकि, भारत और पाकिस्तान विश्व व्यापार संगठन का हिस्सा हैं, दोनों को एक-दूसरे और अन्य साझेदार देशों को Most Favoured Nation का दर्जा देने की आवश्यकता होती है।

क्या Most Favoured Nation स्टेटस Preferential Treatment प्रदान करती है?

हालांकि, ऐसा लगता है कि यदि Most Favoured Nation, Preferential Treatment प्रदान करता है तो यह केवल गैर-भेदभावपूर्ण व्यापार को सुनिश्चित करता है। यह सुनिश्चित करता है कि कोई भी देश जो Most Favoured Nation का दर्जा प्राप्त करता है, वह ग्रैन्टर के अन्य ट्रेड पार्टनर्स की तुलना में किसी भी प्रतिकूल स्थिति से बचता है। एक Most Favoured Nation स्टेटस व्यापार बाधाओं को कम करने और शुल्कों में कमी लाने में मदद करती है। एक Most Favoured Nation स्टेटस दो या दो से अधिक देशों के बीच मुक्त व्यापार को बढ़ावा देने में मदद करती है।

भारत ने पाकिस्तान को Most Favoured Nation का दर्जा कब दिया?

भारत ने WTO के गठन के ठीक एक साल बाद 1996 में पाकिस्तान को Most Favoured Nation का दर्जा दिया। दूसरी ओर, पाकिस्तान ने अभी भी भारत को Most Favoured Nation का दर्जा नहीं दिया है। भारत को Most Favoured Nation का दर्जा नहीं देने के पाकिस्तान के कदम के पीछे का कारण दशकों का संघर्ष, अविश्वास और युद्ध है। कल हुए आतंकी हमले ने भारत को मजबूर कर दिया कि वह पाकिस्तान को दिया हुआ Most Favoured Nation का दर्जा वापस ले ले। इस बात को ध्यान में रखते हुये कि दोनों पड़ोसी देशों के बीच शायद ही कोई मजबूत व्यापार संबंध है, इस तरह का कदम केवल प्रतीकात्मक होगा। इस कदम से दोनों देशों के बीच अवैध व्यापार बढ़ सकता है।

Pulwama में CRPF पर आतंकी हमला

गुरुवार को दोपहर लगभग 3:30 बजे, जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपोरा शहर में 70-वाहन सीआरपीएफ के काफिले में से एक बस से विस्फोटक लदी एसयूवी टकरा गई। सैनिकों को लेकर जा रही बस, गुंडीपुरा खंड से गुजर रही थी जब उस पर यह हमला किया गया। पाकिस्तान स्थित JeM ने हमले के लिए जिम्मेदार आत्मघाती हमलावर को आदिल अहमद डार के रूप में पहचाना और हमले के तुरंत बाद उसका एक वीडियो जारी किया। वह 2018 से कथित तौर पर पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह का हिस्सा था।

फ़िलहाल, घाटी में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। सभी पुलिस काफिले रोक दिए गए हैं और जल्द ही NIA की एक टीम को कश्मीर भेजा जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस हमले का बदला लेने के लिए सेना को पूरी आजादी दी जाएगी। उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान ने बहुत बड़ी गलती की है। संयुक्त राज्य अमेरिका सहित कई देशों ने अर्धसैनिक बलों पर हुए जघन्य हमले की निंदा की है।

~Shravan Pandey

No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.

युवा देश से जुड़ी समाजिक सरोकार रखने वाली खबर, आम आदमी से जुड़े खास मुद्दों के करीब, बेवज़ह और बेतुके के ड्रामे से दूर, हवा हवाई बातों के इतर जमीनी हकीकत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए सब्सक्राइब करे हमारा चैनल युवायु। Contact us: info@uvayu.com