Vijay Mallya के पतन की समयरेखा: भारत का पहला भगोड़ा आर्थिक अपराधी है विजय माल्या

59

एक विशेष प्रिवेंशन ऑफ़ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट ( PMLA ) अदालत ने विजय माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी ( fugitive economic offender ) घोषित किया है। माल्या की संपत्तियों को अब सरकार द्वारा जब्त किया जा सकता है। वह नए अधिनियमित भगोड़े आर्थिक अपराधी अधिनियम, 2018 ( Fugitive Economic Offenders’ Act, 2018 ) के तहत भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित होने वाला पहला व्यक्ति है।

यहाँ हम शराब माफिया के साथ अब तक हुई घटनाओं का एक राउंड-अप पेश कर रहे हैं। हाल ही में, यह स्पष्ट हो गया था कि माल्या का समय अब समाप्त हो गया है:

मई 2005: विजय माल्या ने प्रीमियम सेगमेंट को पूरा करने के लिए किंगफिशर एयरलाइंस ( Kingfisher Airlines ) की स्थापना की।

जून 2007: किंगफिशर एयरलाइंस ( Kingfisher Airlines ) ने कर्ज में डूबे एयर डेक्कन को खरीदने का फैसला किया।

2008: UBHL ने एयर डेक्कन में 26 प्रतिशत हिस्सेदारी के लिए 550 करोड़ रुपये का भुगतान किया।

मार्च 2008: तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण किंगफिशर एयरलाइंस ( Kingfisher Airlines ) का कर्ज 934 करोड़ रु हो गया।

2009: एयरलाइन का कर्ज 7,000 करोड़ रुपये तक पहुंच गया।

2011: एयरलाइन का संचित घाटा अपने नेट वर्थ के 50 प्रतिशत से अधिक तक पहुंच गया।

2011: 70 करोड़ रुपये का भुगतान न करने पर 11 बैंक खातों को सेवा कर विभाग ने निलंबित कर दिया।

2012: माल्या ने कैरियर के कर्ज के लिए 5,904 करोड़ रुपये की गारंटी दी।

फरवरी 2013: UBHL ने किंगफिशर एयरलाइंस के लिए 450 करोड़ रुपये में शेयरधारकों की मंजूरी ली।

मार्च 2013: किंगफिशर एयरलाइंस की कुल संपत्ति 13,000 करोड़ रुपये के नकारात्मक स्थिति पर पहुँच गई।

दिसंबर 2014: यूनाइटेड इंडिया बैंक ने किंगफिशर एयरलाइंस के गारंटर यूबीएचएल को विलफुल डिफॉल्टर के रूप में मान्यता दी।

फरवरी 2015: एसबीआई के नेतृत्व वाले बैंक कंसोर्टियम ने विले पार्ले में किंगफिशर हाउस पर कब्जा कर लिया।

अप्रैल 2015: यूनाइटेड स्पिरिट्स लिमिटेड (USL) ने विजय माल्या को कथित फंड डायवर्जन पर फंड के अध्यक्ष और निदेशक के रूप में पद छोड़ने के लिए कहा।

अक्टूबर 2015: सीबीआई ने आईडीबीआई बैंक द्वारा प्रदान किए गए 950 करोड़ रुपये के ऋण के संबंध में विजय माल्या के कार्यालयों पर छापे मारे।

दिसंबर 2015: CBI ने 900 करोड़ रुपए के IDBI बैंक के ऋण में विजय माल्या से पूछताछ की।

फरवरी 2016: एसबीआई की अगुवाई वाली कंसोर्टियम ने विजय माल्या का पासपोर्ट जब्त करने के लिए डेट रिकवरी ट्रिब्यूनल (DRT) का रुख किया।

मार्च 2016: विजय माल्या ने कर्ज निपटाने के लिए बैंकों के साथ चर्चा की।

मार्च 2016: 9 मार्च को, माल्या भारत छोड़कर चला गया।

मार्च 2016: माल्या ने सितंबर तक बैंकों को 4,000 करोड़ रुपये का भुगतान करने की पेशकश की।

अप्रैल 2016: बैंकों ने 9,000 करोड़ रुपये के बकाये के भुगतान के लिए माल्या के प्रस्तावों को अस्वीकार कर दिया।

अप्रैल 2016: हैदराबाद की अदालत ने विजय माल्या को बाउंस चेक के लिए जीएमआर हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट द्वारा दायर मामले में दोषी ठहराया।

अप्रैल 2016: विदेश मंत्रालय ने विजय माल्या के पासपोर्ट को रद्द कर दिया।

अप्रैल 2016: प्रवर्तन निदेशालय ने माल्या के खिलाफ गैर-जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी करने के लिए विशेष अदालत का दरवाजा खटखटाया।

अप्रैल 2017: माल्या को भारत के अनुरोध पर प्रत्यर्पण के लिए लंदन में गिरफ्तार किया गया।

अक्टूबर 2017: माल्या को एक बार फिर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के हलफनामे के बाद लंदन में गिरफ्तार किया गया।

मार्च 2018: ब्रिटेन की अदालत ने कहा कि यह स्पष्ट है कि भारतीय बैंकों ने किंगफिशर एयरलाइंस को कर्ज देने के नियम तोड़े।

मई 2018: बैंकों के पक्ष में एक फैसले में, ब्रिटेन के एक उच्च न्यायालय ने माल्या की संपत्ति को फ्रीज करने के लिए एक भारतीय अदालत के विश्वव्यापी आदेश को पलटने से इनकार कर दिया।

जून 2018: कर्नाटक उच्च न्यायालय के पास 13,900 करोड़ रुपये की संपत्ति बेचने के लिए अर्जी फाइल हुई। आगे कहता है कि वह उससे छुटकारा पाने के लिए ‘अथक खोज’ से थक गया है।

सितंबर 2018: मुंबई की आर्थर जेल की स्थिति पर सवाल उठाने के बाद माल्या सितंबर में जेल का एक विडियो देखता और फिर उसे ‘प्रभावशाली’ कहता है। यह विडियो उसी जेल का था जहां उसे प्रत्यर्पित किये जाने के बाद रखा जाना था।

अक्टूबर 2018: लंदन की अदालत ने आदेश दिया कि बकाया वसूलने के लिए माल्या की छह लग्जरी कारों को बेचा जाए। रिपोर्ट में कहा गया कि छह कारों में 2012 Maybach 62, 2006 Ferrari F430 और एक James Bond नंबर प्लेट वाली Porsche Cayenne शामिल हैं। कारों पर ‘वीजेएम’ का हस्ताक्षर था।

नवंबर 2018: 13 भारतीय बैंकों ने अदालत में खुलासा जानकारी का उपयोग करने के लिए ब्रिटेन की अदालत से एक अनुकूल आदेश सुरक्षित किया। इस ऑर्डर में 62 वर्षीय व्यापारी के खिलाफ दुनिया भर में फ्रीजिंग के आदेश शामिल हैं।

5 दिसंबर, 2018: माल्या ने विनम्रतापूर्वक बैंकों को पूरी मूल ऋण राशि का भुगतान करने की पेशकश की। माल्या ने यह पेशकश राजनीतिक रूप से संवेदनशील 3,600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर सौदे में कथित बिचौलिए क्रिश्चियन जेम्स मिशेल के प्रत्यर्पण प्रस्ताव के कुछ घंटे ही किया था। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से क्रिश्चियन जेम्स मिशेल की भारत को प्रत्यर्पण किया गया था।

10 दिसंबर, 2018: ब्रिटेन की अदालत ने विजय माल्या के प्रत्यर्पण का आदेश दिया।

5 जनवरी, 2019: एक विशेष पीएमएलए ( PMLA ) अदालत ने विजय माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया। माल्या नए कानून के तहत भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित होने वाला पहला व्यक्ति बन गया है।

~Shravan Pandey

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here